🕉️🙏ओ३म् सादर नमस्ते जी 🙏🕉️ 🌷🍃 आपका दिन शुभ हो 🍃🌷

🕉️🙏ओ३म् सादर नमस्ते जी 🙏🕉️
🌷🍃 आपका दिन शुभ हो 🍃🌷

दिनांक  - -    ११ अक्तूबर २०२२ ईस्वी 
 
दिन  - -  मंगलवार 

  🌖 तिथि - - -  द्वितीया ( २५:२९+ तक तत्पश्चात तृतीया )

🪐 नक्षत्र -  -  अश्विनी ( १६:१७ तक तत्पश्चात भरणी )

पक्ष  - -  कृष्ण 

 मास  - -   कार्तिक 

ऋतु  - -  शरद 
,  
सूर्य  - -  दक्षिणायन

🌞 सूर्योदय  - - दिल्ली में प्रातः  ६:१९ पर

🌞 सूर्यास्त  - -  १७:५६ पर 

🌖 चन्द्रोदय  - -  १८:५६  पर 

🌖चन्द्रास्त  - -  ७:३२ पर 

सृष्टि संवत्  - - १,९६,०८,५३,१२३

कलयुगाब्द  - - ५१२३

विक्रम संवत्  - - २०७९

शक संवत्  - - १९४४

दयानंदाब्द  - - १९८

🍁🍀🍁🍀🍁🍀🍁🍀🍁🍀

🚩‼️ओ३म्‼️🚩

🔥शरीर के चक्रों का शोधन कैसे करें?
====================

  सर्वप्रथम कोई भी  साधक यदि वह आध्यात्मिक क्षेत्र में उन्नति प्राप्त करना चाहता है तो उसका ध्यान एकाग्र होना चाहिए। यहां पर अधिकांश साधक जब योग साधना में आगे बढ़ते हैं तो सोचते हैं कि मूलाधार चक्र पर ध्यान लगाकर समस्त चक्रों को जागृत किया जाए किंतु कोई भी व्यक्ति यदि प्रारंभ में मूलाधार चक्र पर ध्यान लगाता है तो यहां पर ध्यान लगाना बहुत ही मुश्किल प्रक्रिया है। 

   प्रारंभिक साधक का मूलाधार चक्र पर ध्यान लगाना बिल्कुल भी संभव नहीं हो सकेगा। इसलिए साधक को हमेशा आज्ञा चक्र पर ही ध्यान लगाना चाहिए। ध्यान से पूर्व ५ से १० मिनट नाड़ी शोधन अनुलोम विलोम प्राणायाम अवश्य करें। जब साधक का आज्ञा चक्र पर एकाग्रता पूर्वक ध्यान लगने लगे। प्रकाश का साक्षात्कार होने लगे। इसके पश्चात उसे चक्रों का भेदन करने के लिए ध्यान की ऊर्जा का प्रयोग करना चाहिए। साधक को चक्रों का  भेदन करते हुए प्रारंभ में नाड़ी शोधन अनुलोम विलोम प्राणायाम कपालभाति प्राणायाम एवं भ्रामरी प्राणायाम का अवश्य अभ्यास करना चाहिए ।

   जो साधक चक्रों का भेदन करना चाहता है उसका १ आसन पर बैठने का अभ्यास एक से डेढ़ घंटे तक अवश्य हो जाना चाहिए। साधक को आज्ञा चक्र पर २० मिनट ध्यान करना चाहिए इसके पश्चात जब यहां पर ऊर्जा उत्पन्न हो जाए तो उस ऊर्जा को ध्यान के माध्यम से विशुद्धि चक्र पर लेकर जाएं अब विशुद्धि चक्र पर १५ मिनट तक ध्यान करें जब विशुद्धि चक्र पर उर्जा उत्पन्न  हो जाए इसके  पश्चात ध्यान के माध्यम से अनाहत चक्र पर ऊर्जा को लेकर जाएं। जब अनाहत चक्र में प्रकाश दिखाई देने लगे ऊर्जा का साक्षात्कार होने लगे इसके पश्चात मणिपुर चक्र में ध्यान की ऊर्जा को लेकर जाए। जब मणिपुर चक्र में प्रकाश उत्पन्न होने लगे ,प्रकाश दिखाई देने लगे ।इसके पश्चात ध्यान की ऊर्जा को स्वाधिष्ठान चक्र पर लेकर जाएं । जब स्वाधिष्ठान चक्र पर प्रकाश उत्पन्न होने लगे, ध्यान गहराई से लगने लगे इसके पश्चात मूलाधार चक्र पर ध्यान की ऊर्जा को लेकर जाएं । 

   अब मूलाधार चक्र पर निरंतर ध्यान करते रहे। जब ध्यान समाप्त करना को तो क्रमशः मूलाधार से स्वाधिष्ठान, स्वाधिष्ठान से मणिपुर  से  अनाहत , अनाहत  से विशुद्धि चक्र एवं विशुद्धि से  आज्ञा चक्र पर ध्यान को लाकर ध्यान समाप्त करें ।जो साधक आज्ञा चक्र से नीचे की ओर चक्रों का भेदन करते हुए आया है वह जैसे ही मूलाधार चक्र पर ध्यान करेगा पूरी तरह से सहस्रार चक्र को प्रकाशित होता हुआ देख पाएगा। आपको ऐसा लगेगा कि यह चक्र  भेदन का उल्टा  क्रम है किंतु मेरे अनुभव से यह सबसे सुरक्षित मार्ग है  क्योंकि जब व्यक्ति ऊपर से चक्रों का भेदन करते हुए मूलाधार चक्र तक पहुंचेगा तब तक उसका संपूर्ण शरीर ऊर्जा को सहन करने की पूर्ण योग्यता प्राप्त कर चुका होगा  और  ऐसी स्थिति में काम ऊर्जा को ऊपर भेजना किसी भी प्रकार से खतरे से पूर्ण नहीं है। इस प्रकार से ध्यान करते हुए साधक जब मूलाधार एवं स्वाधिष्ठान चक्र पर एक से डेढ़ ,दो  घंटे तक ध्यान को बढ़ा देगा ,ऐसी स्थिति में उसकी संपूर्ण काम ऊर्जा वाष्प रूप धारण करके सहस्रार चक्र में पहुंच जाएगी  और  अत्यधिक प्रकाश का सृजन करेगी। ऐसी स्थिति में काम का केंद्र साधक के पूर्ण वशीभूत हो जायेगा ।यह कुंडलिनी महाशक्ति का संपूर्ण जागरण है। इसके पश्चात जैसे-जैसे साधक अपनी साधना की ऊर्जा को  ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए आगे बढ़ाता है ,वैसे वैसे उसकी यह ऊर्जा अपना विस्तार प्राप्त करती जाती है।

   वास्तविक रूप में वीर्य को संरक्षित करने का महत्व ऊर्जा का  सहस्रार चक्र में प्रवाह होने के बाद ही सिद्ध होता है ।उससे पूर्व तक यदि कोई साधक वीर्य का संरक्षण करके अपने आप को शक्तिशाली एवं सिद्ध बनाना चाहे तो वह वीर्य  का संरक्षण किसी विशेष महत्व का नहीं ,किसी भी  काम का नहीं और यदि वीर्य को जबरदस्ती रोक कर रखा जाएगा तो वह विचारों को  उद्वेलित करता रहेगा।  इससे मन भटकेगा  और ध्यान में बाधा आएगी  और बिना ऊर्जा के ऊधर्व प्रवाह के कोई भी साधक  उसे रोक भी नहीं पाएगा ।हांँ यदि ऊर्जा का संपूर्ण प्रवाह सहस्रार  चक्र की ओर हो गया है तो साधक को  संभोग करने की कोई आवश्यकता महसूस नहीं होगी ।वह अपनी उर्जा को पूरी तरह से नियंत्रित कर सकता है। जब ऊर्जा सहस्रार चक्र तक प्रवाहित होने लगे तो  उस साधक को बारी बारी से मूलाधार से लेकर सहस्रार चक्र तक ,चक्रों में ध्यान करते रहना चाहिए। जिससे की संपूर्ण चक्रों के क्षेत्र में आने वाली नाड़ियों को सहनशील ,दिव्य एवं ऊर्जावान बनाया जा सके। इस प्रकार से निरंतर साधना करता हुआ साधक अपने  संपूर्ण शरीर को ऊर्जा का दिव्य केंद्र बना सकता है ।

🍁🍀🍁🍀🍁🍀🍁🍀🍁🍀

 🚩‼️आज का वेद मंत्र ‼️🚩

  🔥आ पप्राथ महिना वृष्ण्या वृषन् विश्वा शविष्ठ शवसा।
अस्मां अव मघवन् गोमति व्रजे वज्रिंचित्राभिरूतिभि:।।(यजुर्वेद ८६३ )

💐 अर्थ  :- जैसे ब्रह्माण्ड में सब बलवान पदार्थों में परमेश्वर से उत्पन्न किया हुआ बल है, वैसे ही शरीर रूप पिण्ड में प्राण, मन, बुद्धि, इन्द्रियों आदि में जीवात्मा से दिया हुआ सामर्थ्य है, और जीवात्मा भी परमेश्वर से ही वैसा सामर्थ्य प्राप्त करता है।

🍁🍀🍁🍀🍁🍀🍁🍀🍁🍀

🔥विश्व के एकमात्र वैदिक  पञ्चाङ्ग के अनुसार👇
===================

 🙏 🕉🚩आज का संकल्प पाठ🕉🚩🙏

(सृष्ट्यादिसंवत्-संवत्सर-अयन-ऋतु-मास-तिथि -नक्षत्र-लग्न-मुहूर्त)       🔮🚨💧🚨 🔮

ओ३म् तत्सत् श्रीब्रह्मणो द्वितीये परार्द्धे श्रीश्वेतवाराहकल्पे वैवस्वतमन्वन्तरे अष्टाविंशतितमे कलियुगे कलिप्रथमचरणे 【एकवृन्द-षण्णवतिकोटि-अष्टलक्ष-त्रिपञ्चाशत्सहस्र- त्रिविंशत्युत्तरशततमे ( १,९६,०८,५३,१२३ ) सृष्ट्यब्दे】【 नवसप्तत्युत्तर-द्विसहस्रतमे ( २०७९ ) वैक्रमाब्दे 】 【 अष्टनवत्यधिकशततमे ( १९८ ) दयानन्दाब्दे, नल-संवत्सरे,  रवि- दक्षिणयाने शरद -ऋतौ, कार्तिक -मासे , कृष्ण - पक्षे, - द्वितीयायां तिथौ,  -  अश्विनी नक्षत्रे, मंगलवासरे तदनुसार  ११ अक्टूबर  , २०२२ ईस्वी , शिव -मुहूर्ते, भूर्लोके जम्बूद्वीपे भारतवर्षे भरतखण्डे 
आर्यावर्तान्तर्गते.....प्रदेशे.... जनपदे...नगरे... गोत्रोत्पन्न....श्रीमान .( पितामह)... (पिता)...पुत्रोऽहम् ( स्वयं का नाम)...अद्य प्रातः कालीन वेलायाम् सुख शांति समृद्धि हितार्थ,  आत्मकल्याणार्थ,  रोग, शोक, निवारणार्थ च 
 भवन्तम् वृणे

https://youtube.com/shorts/TDjvrCwVmNo?feature=share

🍀🍁🍀🍁🍀🍁🍀🍁🍀🍁

Popular posts from this blog

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।