जय श्री चित्रगुप्त भगवान

 जय श्री चित्रगुप्त भगवान


(शुक्राना और आभार का फल)


एक पक्षी था जो रेगिस्तान में रहता था, बहुत बीमार, कोई पंख नहीं, खाने-पीने के लिए कुछ नहीं, रहने के लिए कोई आश्रय नहीं था।


एक दिन एक देवदूत उधर से गुजर रहा था, उस बीमार और दुःखी पक्षी ने देवदूत को रोका और पूछा-

"तुम कहाँ जा रहे हो?

उसने उत्तर दिया- "मैं स्वर्ग जा रहा हूँ"


बीमार पक्षी ने कहा- "कृपया मेरे लिए पता करें,

*मेरी पीड़ा कब तक समाप्त होगी?"

देवदूत ने कहा- "निश्चित ही मैं इसका पता करूँगा।"


देवदूत ने इतना कह कर बीमार पक्षी से विदा ली।

देवदूत स्वर्ग पहुंचा और बीमार पक्षी का संदेश दिया।


तब स्वर्गदूत ने कहा-

"पक्षी के जीवन में अगले सात वर्ष तक इसी तरह कष्ट लिखा हुआ है उसे ऐसे ही सात वर्ष तक कष्ट भोगना पड़ेगा, तब तक उसके जीवन में कोई खुशी नहीं है।


देवदूत ने कहा- "जब बीमार पक्षी यह सुनेगा तो वह निराश हो जाएगा क्या आप इसके लिए कोई उपाय बता  सकते हैं।


स्वर्गदूत ने उत्तर दिया-

"उससे कहो कि इस मंत्र को हमेशा बोलता रहे...


"इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है"।


वापिसी पर जब देवदूत बीमार पक्षी से फिर मिला तो उसने उसे जल्दी ठीक होने का स्वर्गदूत का मंत्र बताया


सात-आठ दिनों के बाद देवदूत जब फिर उधर से गुजर रहा था, तब उसने देखा कि

पक्षी बहुत खुश था उसके शरीर पर पंख उग आए थे।

उस रेगिस्तानी इलाके में एक छोटा सा पौधा लगा हुआ था, वहां पानी का एक छोटा सा तालाब भी बना हुआ था

 

चिड़िया खुश होकर नाच रही थी देवदूत चकित था स्वर्गदूत ने कहा था कि अगले सात वर्षों तक पक्षी के लिए कोई खुशी नहीं होगी इस सवाल को ध्यान में रखते हुए देवदूत स्वर्गदूत से मिलने पहुंच गया।


देवदूत ने स्वर्गदूत से अपने मन में उठते हुए सवालों का समाधान पूछा तो स्वर्गदूत ने उत्तर दिया-

"हाँ..!! यह सच है कि पक्षी की जिन्दगी में सात साल तक कोई खुशी नहीं लिखी थी लेकिन क्योंकि पक्षी हर स्थिति में

"इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है।"

बोल रहा था और भगवान का शुक्र कर  रहा था, इस कारण उसका जीवन बदल गया


जब पक्षी गर्म रेत पर गिर गया तो उसने कहा-  

"इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है।"


जब यह उड़ नहीं सकता था तो उसने कहा-"इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है।"


जब उसे प्यास लगी और आसपास पानी नहीं था, तो उसने कहा- "इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है।"


जो भी स्थिति हो, पक्षी दोहराता रहा- "इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है।"


और इसलिए सात साल सात दिनों में समाप्त हो गए


जब मैंने यह कहानी सुनी तो मैंने अपने जीवन को महसूस करने सोचने, करने और देखने के तरीके में एक जबरदस्त बदलाव महसूस किया..


मैंने अपने जीवन में इस को अपना लिया

"इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है। "इसने मुझे मेरे विचार को, मेरे जीवन को परिवर्तन करने में मदद की, जो पहले से मेरे पास नहीं था।


"उदाहरण के लिए"

 

अगर मेरा सिर दर्द करता है तो मुझे लगता है कि मेरा बाकी शरीर पूरी तरह से ठीक और स्वस्थ है और मैं कहता हूं- "इन सब के लिए भगवान तेरा शुक्र है"

और मुझे लगता है कि सिरदर्द मुझे बिल्कुल परेशान नहीं करता।


उसी तरह मैंने अपने रिश्तों

(चाहे परिवार, दोस्त, पड़ोसी, सहकर्मी) के

वित्त, सामाजिक जीवन, व्यवसाय और हर उस चीज का उपयोग करना शुरू कर दिया, जिसके साथ मैं संबंधित हो सकता हूं। जिसके साथ भी मैं संपर्क में आया, मैंने इस कहानी को सबके साथ साझा किया और इस कहानी से उनके व्यवहार में भी एक बड़ा बदलाव आया।


इस भगवान के शुक्राने का मेरे जीवन पर वास्तव में गहरा प्रभाव पड़ा, मुझे लगने लगा कि मैं कितना धन्य हूँ, मैं कितना खुश हूँ, जीवन कितना अच्छा है।


इस संदेश को साझा करने का उद्देश्य हम सभी को इस बारे में अवगत कराना है कि--


ATTITUDE OF GRATITUDE

(शुक्राना और आभार का फल)


कितना शक्तिशाली है यह मंत्र हमारे जीवन को नया रूप दे सकता है इसलिए हमेशा आभारी रहें और अपने दृष्टिकोण में बदलाव देखें।


हमेशा हर-चीज और हर-पल उस ईश्वर को याद करके धन्यवाद करो फिर देखो एक जबरदस्त चमत्कार होगा आपके भी जीवन में। 


संजय सिन्हा 

हरिद्वार, उत्तराखंड

Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।