🚩 72वें गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ।इस अवसर पर कुछ समय निकालकर वेदों के इस सन्देश को ध्यानपूर्वक अवश्य पढ़े🚩

 🚩 72वें गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ।इस अवसर पर कुछ समय निकालकर वेदों के इस सन्देश को ध्यानपूर्वक अवश्य पढ़े🚩


हर देशभक्त को यह प्रार्थना-

स नो रास्व राष्ट्रमिन्द्रजूतं तस्य ते रातौ यशस: स्याम । (अथर्ववेद 6/39/2)


हे ईश्वर ! आप हमें परम ऐश्वर्य सम्पन्न राष्ट्र को प्रदान करें । हम आपके शुभ-दान में सदा यशस्वी होकर रहें ।


हमे मातृभूमि के लिए प्राणों तक की बलि देने को उद्यत रहना चाहिए –

उपस्थास्ते अनमीवा अयक्ष्मा अस्मभ्यं सन्तु पृथिवि प्रसूता:।दीर्घं न आयु: प्रतिबुध्यमाना वयं तुभ्यं बलिहृत: स्याम ॥ अथर्ववेद (12/1/62)


हे मातृभूमि ! हम सर्व रोग-रहित और स्वस्थ होकर तेरी सेवा में सदा उपस्थित रहें । तेरे अन्दर उत्पन्न और तैयार किए हुए - स्वदेशी पदार्थ ही हमारे उपयोग में सदा आते रहें । हमारी आयु दीर्घ हो । हम ज्ञान-सम्पन्न होकर - आवश्यकता पड़ने पर तेरे लिए प्राणों तक की बलि को लाने वाले हों ।


वेदों मे आदर्श संसदीय व्यवस्था-


ये ग्रामा यदरण्यं या: सभा अधि भूम्याम् ।ये संग्रामा: समितयस्तेषु चारु वदेम ते ।। (अथर्ववेद 12/1/56)


हे मातृभूमि ! जो तेरे ग्राम हैं, जो जंगल हैं, जो सभा - समिति (कौन्सिल, पार्लियामेन्ट आदि) अथवा संग्राम-स्थल हैं, हम उन में से किसी भी स्थान पर क्यों न हो सदा तेरे विषय में उत्तम ही विचार तथा भाषण आदि करें - तेरे हित का विचार हमारे मन में सदा बना रहे ।

आइए राष्ट्र की उन्नति के लिए हम इन गुणों के धारण करे:-


सत्यं बृहद्दतमुग्रं दीक्षा तपो ब्रह्म यज्ञ: पृथिवीं धारयन्ति । (अथर्ववेद 12/1/1)


सत्य, विस्तृत अथवा विशाल ज्ञान, क्षात्र-बल, ब्रह्मचर्य आदि व्रत,


सुख-दुख, सर्दी-गर्मी, मान-अपमान आदि द्वन्द्वों को सहन करना, धन और अन्न, स्वार्थ-त्याग, सेवा और परोपकार की भावना ये गुण हैं जो पृथ्वी को धारण करने वाले हैं । इन सब भावनाओं को एक शब्द 'धर्म' के द्वारा धारित की जाती हैं ।


[सन्दर्भ ग्रन्थ : पण्डित धर्मदेव विद्यावाचस्पति कृत 'आर्य कुमार निबन्ध-माला' पुस्तक।]

मातृभूमि के लिए ऐसी अनुपम प्रेरणा वेद के अतिरिक्त किसी अन्य ग्रंथ में कहीं नहीं मिल सकती है, इसलिए आइए मित्रों लौट चलें वेदों की ओर।

🚩🚩🚩🚩


डॉ विवेक आर्य 

samelan, marriage buero for all hindu cast, love marigge , intercast marriage , arranged marriage 

rajistertion call-9977987777, 9977957777, 9977967777or rajisterd free aryavivha.com/aryavivha app     

aryasamaj marriage rules,leagal marriage services in aryasamaj mandir indore ,advantages arranging marriage with aryasamaj procedure ,aryasamaj mandir marriage rituals  


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।