आर्य समाज के दीवाने भजनोपदेशक

 आर्य समाज के दीवाने भजनोपदेशक 


पुस्तक :- पंडित चन्द्रभानु व्यक्तित्व कृतित्व 


    १८७५ में आर्य समाज की स्थापना के बाद स्वामी दयानंद के शिक्षित शिष्यों ने पठित वर्ग में आंदोलन कर दिया था। आर्य समाज के लोगों ने गूढ़ ज्ञान,असीम धैर्य, अद्भुत वाकचातुर्य और तर्कशैली से तथा अपने गुरु के आदर्श को सामने रखकर, वेद पताका लेकर समाज में क्रांति मचा दी थी। लेकिन एक मोर्चा ऐसा भी था जिसमें ज्ञान -गाम्भीर्य और अकूत - विद्वता के हथियार नही चलते थे - वह था ग्रामीण और अपठित जनसामान्य में आर्य समाज का मोर्चा। आर्य समाज के भजनोपदेशकों ने इस चुनौती को स्वीकार किया था और यह मोर्चा जीत कर दिखाया। हालांकि यह तथ्य है कि गिने चूने भजनोपदेशकों को छोड़ अनेक लोकप्रिय भजनोपदेशकों ने विधिवत् शास्त्रीय संगीत शिक्षा नही ली थी। लेकिन उनका अदम्य आत्मविश्वास और आर्य समाज के प्रति श्रद्धा, समर्पण ही उनकी शक्ति थी। जिसके बल पर वे बड़े बड़े तूफानों से टकरा गए। 


        किसी विशेष विधा के संगीत की शिक्षा को उपदेशक की सफलता की कसौटी मानना मुझे उचित प्रतीत नही होता। हमारे किसी भी बड़े संगीतज्ञ से बड़े संगीतकार दूसरे फिल्मों आदि के क्षेत्रों में अगणित हैं। संगीत के गहन ज्ञान का अवमूल्यन करना मेरा उद्देश्य नही है। लेकिन संगीतज्ञ और उपदेशक में कुछ तो अन्तर है। उपदेशक की सफलता की कसौटी है अपने श्रोताओं को समझना, सिद्धांत का ज्ञान और अपने कर्त्तव्य के प्रति समर्पण। मेरे गुरु जी के कथनानुसार इन सबसे भी बढ़कर है उपदेशक का नैतिक चरित्र और आचरण। 


       दु:ख की बात यह है कि नेताओं ने ही नही, साहित्यकारों ने भी भजनोपदेशकों के योगदान का समुचित सम्मान नहीं किया। बहुत से भजनोपदेशक तो वृद्ध बैलों की तरह लावारिस छोड़ दिये गए। आज मैं कुछ ऐसे भजनोपदेशकों का उल्लेख करूंगा जिनके नाम का प्राय चर्चा नही होता।। 


#चौधरीईश्वरसिंह_गहलोत         ( सांग से मुकाबला )


     ये भजनोपदेशक आर्य समाज के दीवाने थे। चौधरी ईश्वर सिंह जी काकरौला निवासी अद्भुत कवि भी थे। मुंडलाणा गांव में एक बार आपका प्रचार था उधर पं० लख्मीचंद का सांग होता था। आपका वहां सांग से मुकाबला हो गया, तेरह दिन तक सांग से मुकाबला चलता रहा। आखिर चौधरी ईश्वर सिंह के प्रभावशाली वक्तृत्व के आगे सांगियों के ठूमके फेल हो गए। सांगी भाग खड़े हूए। और चौधरी ईश्वर सिंह जी चौदहवें  दिन भी विजय पताका फहराकर गए। यह घटना स्वामी भीष्म जी अक्षर बताया करते। 


#स्वामीभीष्मजी_महाराज     ( रामलीला से मुकाबला )


        पलवल में स्वामी भीष्म जी का मुकाबला रामलीला वालो से हूआ। दस दिन तक रामलीला वालो के मुकाबले प्रचार होता रहा, रामलीला वालो की हाजरी रोज घटती रही,  मैं उन दिनों स्वामी जी के पास भजन सीख रहा था। बुलंदशहर के एक गांव (नाम याद नही)  में हमारी पार्टी का मुकाबला वहां के मशहूर सांगी होशियारा से चलता रहा। 


#पीपा_प्रचार 


            स्वामी बेधड़क जी (धमतान साहिब जींद वाले), पं० शिवकरण (दादा श्योनी, डाहौला)  व मेरी भजन पार्टी पानीपत से पैदल चलकर बापौली पहूंचे। स्थानीय प्रधान लक्ष्मण सिंह वर्मा व अन्य लोगों ने कहा  अब तो बहुत देर हो गई, आओ भोजन करो - आराम करो। स्वामी जी बोले हम भोजन करने नही प्रचार करने आए हैं। वर्मा जी बोले लोग कैसे आएंगे। स्वामी जी ने कहा इसकी चिंता मत करो। वे एक पुराना पीपा उठाकर चौपाल पर चढ़ गए और उसको बजा बजा कर चिल्लाने लगे आओ भाइयों आर्य समाज का प्रचार होगा। वहां थोड़ी देर में ही लोगो का जमावड़ा हो गया ओर जमकर प्रचार हुआ। 


#पोपोकाआक्रमण 


       उचाना मंडी में मंदिर के आगे प्रचार हो रहा था। श्राद्धो का विषय चल रहा था। लगभग ५८-५९ की बात है। दादा शिवनारायण बोल रहे थे - पोपों का खाया हुआ तुम्हारे बाप दादा तक कैसे पहुंचेगा। शब्द कुछ और थे, जो यहां लिखने उचित नहीं। बहुत से लोग लाठियां लेकर आ गए। मारने को तैयार थे। मैं उस समय जवान था। मेरे हाथ में चिमटा था। मैने पं० जी को तख्त के पीछे कर लिया ओर खुद चिमटा लेकर खड़ा हो गया। और उनको ललकारा तब तक आर्य समाज के लोग भी आ खड़े हूए। समझाने बुझाने से शांति हो गई। हमने कहा अब तो तभी प्रचार करेगें जब यहां आर्य समाज बनाओगे। दो साल वहां मंदिर बना गया। भगत टेकचंद जी, महाशय रामकरण जी, लाला बिशनदास कुल्हाड़े वाले, मंडी के कई सज्जनों, बुडायण एवं कापड़ो गांव वालों की इसमें अहम भूमिका रही। 


#झाबरनहींबलवीर


         भिवानी में एक बार शास्त्रार्थ हुआ। पौराणिकों और आर्यों में लाठियां चल गई। खूब लाठियां चली। भजनोपदेशक झाबर के हाथ एक लाठी लग गई। इन्होने बड़े हाथ दिखाए, शास्त्रार्थ महारथी पं० मनसाराम वैदिक तोप ने कहा कि इसका नाम झाबर नही, बलवीर होना चाहिए, तब से आपको बलवीर कहा जाने लगा। बलवीर झाबर जी अलेवा जींद से थे। 


पंडित बस्तीराम जी की शिक्षा :-👇


      मान अपमान की अनेक घटनायें हैं। वरिष्ठ भजनोपदेशकों के साहस ने हमे प्रेरणा दी कि हमने इन बातों की कभी कोई परवाह नही की। पंडित बस्तीराम जी कहा करते -- आर्य समाज के प्रचार का काम मान अपमान से ऊपर उठकर करो। जब कोई पाखंडी तुम्हें मां की गाली दे तो अपने मन में सोचो तुम्हारा ससुर गाली दे रहा है। बहन की गाली दे तो साला जानो। खिजो मत। गुस्सा करोगे तो प्रचार नहीं कर सकोगे। 


दो दिन में एक रुपया :- 👇


     पं0 रतिराम खलीला अहीरगढ़ में प्रचार कर रहे थे। दो दिन प्रचार हुआ। एक रुपया दान आया। ढोलकिये का खर्च भी नहीं निकला। पंडित जी धुन के पक्के थे। पैसे की कभी चिंता नही की। आपकी अनुपस्थिति में आपकी पत्नी हैजे के रोग के कारण संसार छोड़ गई। 


स्वामी नित्यानंद का सिर फोड़ दिया :-👇


स्वामी नित्यानंद सरस्वती (चौधरी न्योनंद सिंह धनखड़)

 पर रोहतक जलूस में आक्रमण हुआ। लोहारु में सिर फोड़ा गया। इन महाराज ने कभी पैसे की चिंता नहीं की। जहां बुलाते वहीं पहुंच जाते। पं0 ज्योतिस्वरुप मानपुरा, पं0 हनलाल बामला मंधार, चौ0 नत्था सिंह बदरपुर आदि प्रचारक घर फुंक तमाशा देखते रहे। पं0 प्रभुदयाल जी पौली व्यापारी वर्ग से थे। परिवार और रिश्तेदारों का बहुत दबाव आया - यह क्या मांगना खाना शुरु कर दिया। पर उन्होने पीछे कदम नहीं हटाया। मतलौडा ( हिसार ) के श्रीचंद, कोथकलां के कालुराम व मिर्चपुर के लाल सिंह अपनी भरीपुरी खेती बाड़ी छोड़कर प्रचार करते रहे। मार्मिक कहानियां हैं, बहुत घटनाएं हैं। कभी विस्तार से लिखने का प्रयास करेगें। आर्य समाज के भजनोपदेशकों का अपना इतिहास है। 


पंडित चन्द्रभानु जी की रोजी छिन गई :- 👇


     जिन दिनों गुरुकुल कालवा को आचार्य बलदेव जी ने संभाला था, उन दिनों इसकी हालत बहुत खराब थी। आसपास के क्षेत्र के लोगो की भावना भी गुरुकुल के प्रति सही नहीं थी। लोग कहते थे - लेट पर बाबे पडे हैं। गांव में कोई नहीं सुनता। उन दिनों आचार्य बलदेव जी गांव में चन्द्रभानु जी के पास पहुंचे। उन्होने कहा की गुरुकुल का प्रचार करो। पं0 जी ने कहा - आचार्य जी खर्च पुरा नहीं होता। प्रचार का स्थायी साधन नहीं। दुकान बहुत अच्छी चल रही है। उन्होने कहा आप स्थायी रुप से गुरुकुल का प्रचार करो। पं0 जी उन दिनो विश्वास पर दुकान छोड़ प्रचार में निकल पड़े। दस रुपए प्रतिदिन पार्टी की दक्षिणा तय हूई। पं0 जी ने एक मास प्रचार किया। गुरुकुल के लिए 300 मन धान संग्रह कर दिया। सीजन समाप्त होते ही आचार्य जी के पास गए तो आचार्य जी बोले अब आप आराम करो। पंडित जी बोले अब मैं कहां जाऊं  ?? इस पर वो कुछ नहीं बोले। पंडित जी फिर बेरोजगार हो गए। उधर दुकान भी ठप्प हो गई थी। 


नोट :- ऐसे ऐसे मिशनरी उपदेशको ने आर्य समाज खड़ा किया था। पर आज इसके विपरीत है। मैं क्षमा चाहूंगा बात थोड़ी कड़वी है। आज के उपदेशक पहले फिस, खाने पीने की व्यवस्था किये बीना प्रचार करने की हामी नहीं भरते। रही प्रचार के आनंद की बात आज वो सभी में जीरो है। आज के भजनीको से ज्यादा सुरीले गीत हमारी गांवो में माताएं बहने भी गा देती हैं।

samelan, marriage buero for all hindu cast, love marigge , intercast marriage , arranged marriage


rajistertion call-9977987777, 9977957777, 9977967777or rajisterd free aryavivha.com/aryavivha app   




Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।