aaj ka mantra

अविधायामन्तरे वर्तमाना स्वयं धीरा: पण्डितम्मन्यमाना:।
जड्घन्यमाना: परियन्ति मूढ़ा अन्धेनैव नीयमाना यथान्धा:।। (मुण्डकोपनिषद् )


  💐 अर्थ:- अविधा के बीच में पड़े हुए अर्थात् अविधा से ग्रसित अपने को धीर ( ज्ञानी ) और पण्डित (चतुर ) मानने वाले मुर्ख ठोकरे खाते हुए सब ओर , इधर- उधर ऐसे भटकते है , और दुर्दशा को प्राप्त होते है जैसे अन्धे के द्वारा रास्ता दिखाया जाता हुआ अंधा ठोकरे खाता है , दुःख पाता है ।


samelan, marriage buero for all hindu cast, love marigge , intercast marriage , arranged mar


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।