वैदिक लेख

 



 


 


 


 


समं कायशिरोग्रीवं धारयन्नचलं स्थिरः।
सम्प्रेक्ष्य नासिकाग्रं स्वं दिशश्चानवलोकयन्‌॥ भगवदगीता  ६/१३
 
भावार्थ- अपने शरीर, सिर, तथा गर्दन को सीधी रेखा में अचल और स्थिर रखकर, नासिका के आगे के सिरे पर दृष्टि जमाकर, अन्य दिशाओं को न देखता हुआ ध्यान में स्थित हो जाना चाहिए।
 
नात्यश्नतस्तु योगोऽस्ति न चैकान्तमनश्नतः।
न चाति स्वप्नशीलस्य जाग्रतो नैव चार्जुन॥ भगवदगीता  ६/१४
 
भावार्थ- हे अर्जुन! योग में स्थित मनुष्य को न तो अधिक भोजन करना चाहिए और न ही कम भोजन करना चाहिए, न ही अधिक सोना चाहिए और न ही अधिक जागते रहना चाहिए।


ओमित्यकाक्षरं ब्रम व्याहरन मामनुस्मरन ।
य: प्रयाति त्यबन् यह् स् याति परमां गतिम् ॥
ओ३म् ८/३१
भावार्थ -   जो साधक ओ३म् इस एकाहार् ब्रह्म का उच्चारण करता हुआ ओ३म् ही का स्मरण करता हुआ देह त्याग करता है वह परमगति को पाता है ।


वेधं पवित्रमोंकारम् ऋक् साम यजुरेव च ॥  भगवदगीता ९/१७
भावार्थ  - यह ओ३म्‌कार् पवित्र है, जानने योग्य है,
 उस ब्रह्म का उपदेश प्राप्त करने 
 ऋग्वद, यजुर्वेद, सामवेद भी जानने योग्य है ।


ओ३म् तत्सदितिनिर्देशाद ब्रामणस्त्रिविध: स्मृत: ॥  भगवदगीता १७/२३
भावार्थ  -   ओ३म् तत् सत् इन तीन पदो मे ब्रह्म का निर्देश है ।


तस्मादोमित्युदाहत्य यज्ञदानतप: क्रिया: ।
प्रवर्तन्ते विधानोक्ता: सततं ब्रह्म वादिनम् ॥  भगवदगीता १७/२४
 भावार्थ  -  ओ३म् इस अक्षर का उच्चारण करके ब्रमवेता अधक का विधिपूर्वक यज्ञ,
दान, तप इत्यादि कार्य करे अर्थात् ब्रह्मवेत्ता साधक हरकाम ओ३म् के साथ ही करे ।



9977957777sarvjatiy parichay samelan, marriage buero for all hindu cast, love marigge , intercast marriage , arranged marriage

rajistertion call-9977987777, 9977957777, 9977967777or rajisterd free aryavivha.com/aryavivha app


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।