तू ओम् का स्मरण कर।

 


 


 



 


 


 


है क्रतु! तू ओम् का स्मरण कर। जीवात्मा तू ओम का स्मरण कर । यह वैदिक विचार आज आप सुन रहे हैं जीवात्मा को क्रतु कहा गया है । जीवात्मा को कहा गया है -- है जीवात्मा तू ओम का स्मरण कर-- यजुर्वेद के 40 वें अध्याय में यह मंत्र है । अधिक जानकारी के लिए आप वैदिक राष्ट्र यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें। धन्यवाद



Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।