ओ३म् अग्ने स्वाहा । ओ३म् सोमाय स्वाहा ।

 


 



 


 


 


ओ३म् अग्ने स्वाहा । ओ३म् सोमाय स्वाहा । यह मंत्र यज्ञ में हम बोलते हुए कहते हैं परमात्मा मेरे जीवन में अग्नि और सोम दोनों ही रहे । अग्नि और सोम का हमारे व्यवहार में क्या महत्व है ? इसको सुनने के लिए ,जानने के लिए आप इस वीडियो को पूरा देखें । वैदिक राष्ट्र यूट्यूब चैनल के माध्यम से #आज_का_वैदिक_विचार है -- अग्नि और सोम , माता -- पिता का पुत्र - पुत्री के साथ, आचार्य का शिष्य के साथ , पति का पत्नी और पत्नी का पति के साथ कैसे संबंध स्थापित हो ? इसमें अग्नि और सोम की क्या भूमिका है ? इसको समझने के लिए आप यह वीडियो पूरा देखें । इसी प्रकार से वैदिक सिद्धांतों को ,वैदिक दर्शन को ,सामाजिक -शारीरिक आत्मिक और सामाजिक मूल्यों को समझने के लिए एवं इन विषयों को जानने के लिए आप अवश्य वैदिक राष्ट्र यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें । लाइक करें। शेयर करें कमेंट करें । धन्यवाद आचार्य भानु प्रताप वेदालंकार इंदौर मध्य प्रदेश आर्य समाज इंदौर मध्य प्रदेश गुरु विरजानंद गुरुकुल इंदौर मध्य प्रदेश धन्यवाद।



Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।