#अमृत_की_प्राप्ति_कैसे जो_बोले_सो_निहाल_सत्_श्री_अकाल और वेदमंत्र ओं_सत्यं_यश_श्री का सम्बंध क्या

 




 


 


#अमृत_की_प्राप्ति_कैसे?#जो_बोले_सो_निहाल_सत्_श्री_अकाल और#वेदमंत्र#ओं_सत्यं_यश_श्री का सम्बंध क्या? इसको जानने के लिए पूरा विडीयो देखियेगा। वेद की ऋचायें ,मंत्र है वे समस्त मानव समाज में व्याप्त है । कोई भी मजहब ,कोई भी मत ,कोई भी संप्रदाय में जो भी कुछ अच्छा है ।वह सब वैदिक विचारों का ही प्रभाव है । इसको इस वीडियो में समझे गुरु नानक महाराज ने अमृत के विषय में जो कहा -- "" "जो बोले सो निहाल ,सत् श्री अकाल" इसका संबंध आचमन के तीसरे मंत्र से कैसे हैं ? इसे वीडियो में आप पूरा देखें ,सुनें,समझें। आपको यह वीडियो अच्छा लगे तो शेयर करें । अच्छा ना लगे तो हमें बताएं- कमेंट करें ।आपके विचार हमारे लिए बहुत उपयोगी हैं ।वैदिक- सिद्धांत के प्रचार-प्रसार के लिए मानव समाज के उत्थान के लिए आप ऐसे संदेशों को अधिक से अधिक प्रचारित करें । प्रसारित करें। वैदिक राष्ट्र यूट्यूब चैनल सब्क्राइब नहीं किया है तो अवश्य करें। धन्यवाद । आचार्य भानु प्रताप वेदालंकार इंदौर मध्य प्रदेश आर्य समाज संचार नगर इंदौर मध्य प्रदेश गुरु विरजानन्द गुरुकुल इंदौर मध्य प्रदेश 


 


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।