अमृत_कहाँ_है किसकी_छाया_में_अमृत_है

 


 



 


 Amratअमृत_कहाँ_है किसकी_छाया_में_अमृत_है aaj_ka_vichar उस परमपिता परमात्मा की छाया ही ,उसका आश्रय ही अमृत है और उसके आश्रय से दूर होना - उसकी छाया से दूर होना ही मृत्यु है । अमृत हमारे शरीर में कहां पर है ? हम अपने शरीर में अमृत की प्राप्ति कैसे करें ? इस संसार में यदि अमृत प्राप्त करना है तो परमात्मा की शरण में हमको जाना ही होगा । आप देख रहे हैं वैदिक राष्ट्र यूट्यूब चैनल आज का वैदिक विचार । आप इसी तरह से हमें अपने कमेंट - समीक्षाएं देते रहें 👍लाइक करते रहें शेयर करते रहें धन्यवाद



Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।