आज का वेद मंत्र

 


 


                                                                         


 


ओ३म् न विप्रपादोदककर्दमानि,न वेदशास्त्र ध्वनि गर्जितानि ।स्वाह स्वधाकार विवर्जितानि,शमशान तुल्यानि गृहाणि तानि।।( चाणक्य नीति १२|९)


 अर्थ:- जिस घर में ब्राह्मणों के चरण धोने से कीचड़ न हो तथा वेदशास्त्रों की ध्वनि की गर्जना न होती हो और आहुति युक्त स्वाह  - स्वधा शब्दों का उच्चारण न होता हो वह घर श्मशान के तुल्य है ।


sarvjatiy parichay samelan, marriage buero for all hindu cast, love marigge , intercast marriage , arranged marriage

rajistertion call-9977987777, 9977957777, 9977967777or rajisterd free aryavivha.com/aryavivha app


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।