सच्ची विद्या.

 


 



 


 


 


सच्ची विद्या.


छान्दोग्य उपनिषद की कहानी है- ऋषि आरुणि का पुत्र श्वेतकेतु गुरुकुल से शिक्षा ग्रहण करके जब लौटा, तब उसके पिता को अनुभूति हुई कि पुत्र में कुछ अहंकार पैदा हो गया है । पुत्र ने बताया उसने सब विद्याएं पढ़ ली है ।


पिता आरुणि बोले- “क्या तूने वह विद्या भी पढ़ ली है जिसे पढ़कर सब कुछ जान लिया जाता है?” पुत्र ने कहा- “वह तो मुझे मालूम नहीं ।” ऋषि आरुणि बोले- “यह मिट्टी देखो इससे घड़ा, मटका, सुराही, मिट्टी के खिलौने- हाथी, घोड़े, तोते, कबूतर, राजा-रानी, कुत्ता-बिल्ली सब बन जाते हैं । सबके भीतर धातु का मूल तत्व एक जैसा है । सारे खनिज पदार्थ, संपूर्ण वनस्पति, सारे पशु-पक्षी एक ही मूल तत्व से प्रभावित हैं ।” 


श्वेतकेतु बोला- “पिताजी, बात कुछ गहरी है, समझ में नहीं आती, समझाकर बतलाइए ” ऋषि आरुणि ने कहा- “सामने एक वृक्ष है उस पर कही भी चोट करो, सब जगह से एक जैसा ही रस निकलेगा । यह रसरुपी आत्मा से भरा है यह आत्मा निकल जाने पर यह वृक्ष सूख जाता है ।”


श्वेतकेतु बोला- “बात कुछ कठिन है, समझ में नहीं आती ।” ऋषि ने सामने वट-वृक्ष से फल तोड़कर लाने के लिए कहा फल के तोड़ने पर पूछा- “फल के अंदर क्या दिखता है?” पिताजी! फल के अंदर अणु जैसे छोटे-छोटे दाने है । ” पिता ने इन दोनों को तोड़ने का हुकुम दिया । पुत्र ने दाने तोड़े, परंतु उसे कुछ भी दिखाई नहीं दिया ।


पुत्र की निराशा देखकर ऋषि बोले- “एक पात्र में जल ले आओ । ” पानी में भरे पात्र में उन्होंने पुत्र का नमक की बड़ी डली डालने के लिए कहा, एक पहर बीत जाने पर ऋषि ने श्वेतकेतु से कहा- “पुत्र, तुमने जो नमक की डली डाली थी, वह पात्र से निकालकर ले आओ ।” श्वेतकेतु ने पानी देखा, डली दिखाई नहीं दी; फिर अँगुली से पानी टटोला, पर वह डली नहीं मिली| पिता ने कहा- “अब जल का आचमन करो ।” पुत्र ने कहा- “पिताजी, पानी तो बहुत नमकीन है| सब जगह पानी खारा है ।”


पिता बोले- “जिस तरह नमक की वह डली दिखाई नहीं देती, फिर भी वह जल में सर्वत्र व्याप्त है, उसी तरह हर पदार्थ में वह सत् तत्व भी व्याप्त है । उस तत्व को जानने का प्रयत्न करो । यह जानने की विद्या ही सच्ची विद्या है ।”


"अध्यात्म विद्या विद्यानाम" 
"सा विद्या या विमुक्तये "


sarvjatiy parichay samelan, marriage buero for all hindu cast, love marigge , intercast marriage , arranged marriage

rajistertion call-9977987777, 9977957777, 9977967777or rajisterd free aryavivha.com/aryavivha app


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।