प्रार्थनामय भजन- दयालु पिता हे दया हम पर कर दो

 



 


 


 



प्रार्थनामय भजन-
दयालु पिता हे दया हम पर कर दो
कभी न विमुख हों वरद हाथ धर दो।
दयालु पिता हे---
करें कर्म तेरा, वरें धर्म तेरा।-२
भरें ज्ञान तेरा, चलें साथ वर दो।।
दयालु पिता हे---
कभी न विमुख---
जपें नाम तेरा, करें गान तेरा।
पियें पान तेरा, अमिय क्वाथ भर दो।।
दयालु पिता हे---
कभी न विमुख---
चलें तेरे मत पर, विमल वेद पथ पर।
खिलें देह रथ पर, छतर तात धर दो।।
दयालु पिता हे---
कभी न विमुख---
तजें दोष दुर्गुण, भरें शील सद्गुण।
तुझी से रहें जुड़, वो बरसात कर दो।।
दयालु पिता हे---
कभी न विमुख---
अंतिम विनय यह, मिटें सारे भ्रम भय।
मिले मोक्ष आनंद पूर्ण नाथ कर दो।।
दयालु पिता हे-----
कभी न विमुख---


 


 sarvjatiy parichay samelan,marriage  buero for all hindu cast,love marigge ,intercast marriage  ,arranged marriage 


 rajistertion call-9977987777,9977957777,9977967777or rajisterd free aryavivha.com/aryavivha app


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।