विर्चुअल वर्ल्ड का सच

चार मित्र थे। Fake ID  में नाम -                                             


1 सोहराब,               सुनील यादव
2 सरफराज              अमित मिश्रा
3 हामिद कुरैशी         नागेंद्र कुमार पासवान
4 अहमद                  सुरेन्द्र सिंह         


अब सुनील यादव (सोहराब) पोस्ट डालता हैं कि -  "धर्म के नाम पर ब्राह्मणों ने हमेशा हमारा शोषण किया है कोई देवी देवता नहीं होता हिन्दू धर्म सिर्फ ब्राह्मणों का बकवास है ये सब बीजेपी और आरएसएस वाला है।"


अब शुरू होता है इस नाटक के बाकि तीनो किरदारों का तमाशा देखिए कमेंट बॉक्स में ।


Comment


सुरेंद्र सिंह उर्फ (अहमद)-


"ऐ सुनील यादव खबरदार जो हिन्दू धर्म के बारे में कुछ बोला तुम यादव लोग हिन्दू नहीं हो सकते #$%2-4 गाली लिख देता है ।"


फिर बारी आती है तीसरे नौटंकी बाज की-


नागेंद्र पासवान उर्फ (हामिद)


नमो बुद्धाय जय भीम।
"अरे भाईलोगों गाली गलौज क्यों कर रहे सच्चाई तो कड़वी होती ही है तुम लोग हम दलितों को मंदिर में घुसने नहीं देते हो ये धर्म नहीं पाखण्ड है इससे अच्छा तो इस्लाम है सभी बराबर खड़े हो कर नमाज पढ़ते हैं ।"


अब तीसरा नौटंकी बाज आता है कमेंट बॉक्स में-


अमित मिश्रा उर्फ (सरफ़राज़)


"हाँ... हाँ... तुम लोग अछूत हो तो क्यों घुसने दे मंदिर में?? जाओ इस्लाम ही अपना लो तुम सब मूर्ख हो कौन मुंह लगाए तुझे।


--–---------------


मित्रों सिर्फ इन चार  की इतनी सी नौटंकी जबकि चारो एक ही समुदाय के हैं।


मात्र इतनी नौटंकी के बाद कई हिन्दू यादव ,राजपूत, ब्राह्मण और दलित सभी तुरंत इस कमेंट बॉक्स में अपनी-अपनी जाति के समर्थन में बिना सोचे-समझे बिना अगले किसी fake id को जाने समझे आपस में एक दूसरे से लड़ने लगते हैं और हमारे जातिवाद का फायदा उठाने वाले वो चारो हमारी मूर्खता पर अट्टहास लगा कर हँसते हैं।
देश के अंदर -बाहर से दुश्मन घात लगा कर बैठा है मौके की तलाश में, और इस प्रकार हिंदूओं में आपसी फूट डाल कर लड़ाते हैं ।


विचार करें-


ऐसे लाखों सोहराब और सरफराज दिन रात सोशल मिडिया पर तुम सबको तोड़ने और लड़ाने के लिए काम कर रहे हैं ।
ज़िहाद अपने चरम पर है हर स्तर से हिंदुत्व को क्षति पहुंचाने पर कार्य हो रहा है वो भी युद्धस्तर पर।


सावधान रहें, हिन्दू एक थे एक है और एक रहे।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।