यज्ञ के विषय में महर्षि के विचार

यज्ञ के विषय में महर्षि के विचार



"यज्ञो वै श्रेष्ठतमं कर्म" शतपथ ब्राह्मण 


       यज्ञ से तीन हित सिद्ध होते हैं।


       (1) आध्यात्मिक  - संयम, एकमात्र परमेश्वर की उपासना तथा कर्मों का अनुष्ठान वेदों के अनुसार।
       (2) आधिदैविक- अग्नि, वायु, जल, सूर्य, पृथिवी आदि पदार्थों के ज्ञान से शिल्प विद्या की सिद्धि, शिल्प कार्य, यंत्र कला, विमान तथा अन्यान्य यंत्रों का निर्माण, अग्नि, वायु, जल की शुद्धि।
       (3) आधियाज्ञिक :- परोपकार, विद्या दान, सेवा, औषध, वनस्पत्यादि द्वारा रोग दुःख, दारिद्र्य का निवारण, धन, अन्न, ऐश्वर्य की वृद्धि व समस्त सुखों का विस्तार।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।