वेदमंत्र(तुम देवों की माता हो)

 वेदमंत्र(तुम देवों की माता हो)


माता देवानामदितेरनीकं यज्ञस्य केतुर्बृहती वि भाहि।
प्रशस्तिकृद्ब्रह्मणे नो व्युच्छा नो जने जनय विश्ववारे॥ 


       हे ऊषा, तुम देवों की माता हो। तुम स्वास्थ्य का मुख्य कारण हो। तुम अंधकार को हटाकर हमारे ज्ञान को प्रकाशित करती हो। तुम सभी को आनंद प्रदान करने वाली हो। हमें भी जीवन में उन ऊंचाइयों पर ले जाओ, जहां हमें जाना चाहिए।


      O Usha, you are the mother of divine powers. You are the main cause of health.  You remove the darkness of ignorance and enlighten us. You are giver of bliss to everyone. Take us to those heights in life, where we belong. 


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।