वेद मंत्र

 


अस्मा इदु सप्तिमिव श्रवस्येन्द्रायार्कं जुह्वा समञ्जे।
वीरं दानौकसं वन्दध्यै पुरां गूर्तश्रवसं दर्माणम्॥ ऋग्वेद १-६१-५।।🙏🌼


एक मनुष्य घोड़ों को रथ में जोड़ कर आवागमन को सुगम बनाता है। उसी प्रकार एक वीर योद्धा सेनापति शत्रुओं के गढ़ों को नष्ट कर लोगों के जीवन को सुगम बनाता है, ऐसे वीर नायक की हम प्रशंसा करते हैं, और उनका सम्मान करते हैं।🙏🌼


A man yokes horse to the chariot to facilitate the movement from one place to another. In the same way, a brave warrior commander makes the lives of people easy by destroying the strongholds of enemies, we admire, and respect such heroic warrior. (Rig Veda 1-61-5)🙏🌼 #vedgsawana🙏🌼


🌼


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।