वेद मंत्र


उषस्तच्चित्रमा भरास्मभ्यं वाजिनीवति।
येन तोकं च तनयं च धामहे॥ ऋग्वेद १-९२-१३।।


हे उत्तम गृहणी, तुम उषा के समान हो, तुम उत्तम खाद्य पदार्थ प्रदान करने वाली और उत्तम क्रियाएं करने वाली हो। तुम इसी प्रकार  हमारे ऊपर अपने सौभाग्य का आशीर्वाद रखें, जिससे हमारी संतानें और उनकी संतान आनंद से रहें।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।