वेद मंत्र

यो विश्वस्य जगतः प्राणतस्पतिर्यो ब्रह्मणे प्रथमो गा अविन्दत्।
इन्द्रो यो दस्यूँरधराँ अवातिरन्मरुत्वन्तं सख्याय हवामहे॥ ऋग्वेद १-१०१-५।।


वह प्रभु जो गतिशील प्राण धारियों के स्वामी हैं। जो समस्त चराचर जगत के निर्माता हैं, और उसे धारण करने वाले हैं। जो  कर्मों के अनुसार जीवो को विभिन्न योनियों में भेजते हैं। जो नियम और न्याय के स्वामी हैं। जो दुष्ट प्रवृत्ति को नष्ट करने वाले हैं। जो वेदवाणीयों को प्राप्त कराते हैं। ऐसे सर्वशक्तिमान प्रभु का हम आव्हान करते हैं, कि वह हमारे मित्र बन जाएं, हमें सुरक्षा और समृद्धि प्रदान करें।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।