वेद के मंत्र

इच्छन्नश्वस्य यच्छिरः पर्वतेष्वपश्रितं।
तद्विदच्छर्यणावति।। ऋग्वेद १-८४-१४।।🙏🌸


जिस प्रकार सूर्य बादलों को छेद कर उनमें छिपे जल कणों को जमीन पर  गिराता है। उसी प्रकार शासक को पहाड़ों और जंगलों आदि में छिपे हुए देश के शत्रुओं को खोज कर जमीन पर मार गिराना चाहिए।🙏🌸


As the sun breaks down the densest concentration of water vapours hidden in clouds to the land. Similarly, the ruler should trace out the enemies hidden in mountains and forests and bring them down to the earth. (Rig Veda 1-84-14)🙏🌸 #vedgsawana🙏


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।