त्याग तपस्या आदर्शों का पालन करना


       त्याग तपस्या आदर्शों का पालन करना आदि, ये उत्तम गुण हैं, जो मनुष्य को उन्नति की ओर ले जाते हैं। लोभ लालच क्रोध ईर्ष्या द्वेष राग अविद्या आदि ये दोष हैं, जो मनुष्य को पतन की ओर ले जाते हैं। 


       भूतकाल में श्री राम चन्द्र जी महाराज ने त्याग तपस्या एवं उच्च आदर्शों का पालन किया। संपत्ति परिवार भौतिक सुविधाएं आदि छोड़कर, माता पिता की आज्ञा का पालन करने के लिए, त्यागी बनकर जंगल में चले गए और अनेक कष्ट सहते हुए तपस्या की । उन्होंने ये सब चीजें तो छोड़ दी, परंतु रक्षा के लिए धनुष बाण को नहीं छोड़ा। उनके इस आचरण से हमें यह शिक्षा मिलती है कि आप और कुछ भले ही छोड़ दें परंतु अपनी रक्षा के साधन न छोड़ें. साधन न हों,  तो साधनों का संग्रह करें। हर कीमत पर अपनी रक्षा अवश्य करनी चाहिए। तो अपने पूर्वज भगवान श्री रामचंद्र जी के जीवन आचरण से यह बात अवश्य सीखें, तथा अपनी रक्षा अवश्य करें।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।