सुबह सवेरे लेकर तेरा नाम

ईश भक्ति का मधुर भजन:
तर्ज: सुबह सवेरे लेकर तेरा नाम


ओम ही ओम जपे तन मन और प्राण प्रभु;
मिलजुल  कर  हम करें तेरा गुणगान प्रभु।
चलें  सदा  वैदिक  पथ  पर  अरमान प्रभु;
राष्ट्र  के  हित  मे जीवन हो बलिदान प्रभु।।


संध्या सत्संग में सबका दिल लग जाये;
सत्य की ज्योति मन मंदिर में जग जाये;
भर  जाए  जीवन  मे  ज्ञान विज्ञान प्रभु।
मिलजुल कर सब करें तेरा गुणगान प्रभु।


दया क्षमा उत्तम व्यवहार को अपनाये;
सदगुण  से  अपने जीवन को महकाये।
ईश प्रेम का सबको मिले वरदान प्रभु।
मिलजुल कर सब करें तेरा गुणगान प्रभु।


लक्ष्य ध्यान में रखकर हम चलते जाएं;
पर उपकार में दीपक बन जलते जायें।
नही करें जीवन मे कभी अभिमान प्रभु।
मिलजुल कर सब करें तेरा गुणगान प्रभु।


सही गलत का निर्णय वेद से करना है;
सत्कर्मो  से  दुःख सागर  को तरना है।
रहें   हमेशा   कर्तव्यों   का ध्यान प्रभु।
मिलजुल कर सब करें तेरा गुणगान प्रभु।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।