मनुष्य की विचार धारा

व्यक्ति का जीवन विचारों के आधार पर चलता है। दो प्रकार के विचार अधिकतर मन में रहते हैं, सकारात्मक और निषेधात्मक। यदि किसी व्यक्ति के अधिकांश विचार सकारात्मक हैं, अर्थात आशावादी हैं, तो उसका जीवन बहुत सुखद होगा। 
यदि किसी के विचार निषेधात्मक हैं, और वह प्रायः सारा दिन निराशा में ही जीता है, तो वह व्यक्ति दुखी परेशान एवं चिंतित होगा। 
इसलिए अपने अंदर निराशावादी विचारों को स्थान न देवें, बल्कि आशावादी विचारों को सदा बनाए रखें।
जैसे कोई व्यक्ति सोचता है कि मैं अमुक डिग्री प्राप्त नहीं कर सकता,.  इस प्रकार का निराशावादी विचार वह अपने मन में रखता  है। तो उसे उस डिग्री को प्राप्त करने में अनेक बाधाएं कष्ट समस्याएं आपत्तियां दिखाई देंगी, जिसके कारण उसका उत्साह टूट जाएगा और व्यक्ति सामर्थ्य होते हुए भी, उस डिग्री को प्राप्त नहीं कर पाएगा। इसके विपरीत यदि कोई व्यक्ति ऐसा सोचता है कि मैं उस  डिग्री को प्राप्त कर सकता हूं. ऐसा सोचने पर उसे बीसियों प्रकार के उपाय दिखाई देंगे। बीसियों प्रकार के सहयोगी कारण दिखाई देंगे, जिस से उत्साहित होकर वह पूरे मनोयोग से पुरुषार्थ करेगा और उस डिग्री को प्राप्त कर लेगा। ऐसा ही सब जगह समझना चाहिए। 
इसलिए आशावादी विचारधारा बनाएं, निराशावादी न बनें। 
हाँ, अपनी क्षमता को ध्यान में रखकर आशावादी बनें, अतिआशावादी भी न बनें। अर्थात अपनी क्षमता से अधिक ऊँची ऊँची कल्पनाएँ न करें। अन्यथा तब भी आप निराश होंगे और डिप्रेशन में चले जाएंगे।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।