ज्ञानदीप प्रभु हमें ज्ञान और शक्ति दे

ज्ञानदीप प्रभु हमें ज्ञान और शक्ति दे


ऋभुर्भराय सं शिशातु सातिं समर्यजिद्वाजो अस्माँ अविष्टु।
तन्नो मित्रो वरुणो मामहन्तामदितिः सिन्धुः पृथिवी उत द्यौः॥ ऋग्वेद १-१११-५।।


        वह ज्ञानदीप प्रभु हमें जीवन के संग्राम में विजयी होने के लिए उत्तम साधन प्राप्त कराएं। हमारा संरक्षण करें। वासनाओं से युद्ध में विजयी होने के लिए ज्ञान और शक्ति दे। हमारे  इस संकल्प को परिपूर्ण करने में मित्र, उत्तम गुण वाला विद्वान, पृथ्वी, समुद्र और सूर्य का प्रकाश सहायक हो। 


        May God give us the best means to be victorious in the struggle of life.  Protect us.  Give knowledge and strength to win the battle against lusts.  Friend, scholar of best quality, earth, sea and sunlight should be helpful in fulfilling this resolve of ours.  


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।