चर्म रोग का आयुर्वेदिक उपचार

      चर्म रोग (खुजली, दाद, सोरायसिस) की आयुर्वेदिक चिकित्सा- 


    आरोग्यवर्धिनी वटी 20 ग्राम, कैशौर गुग्गुल 20 ग्राम, पंचतिक्तघृत गुग्गुल 20 ग्राम महामंजिष्ठादिघन वटी 20 ग्राम , गुडुच्यादि लौह 10 ग्राम , चोपचिन्यादि चूर्ण 100  ग्राम, त्रिफला चूर्ण 100 ग्राम  सबको पीसकर एक मे मिलाकर 50  खुराक बनायें 1-1 पुड़िया पानी से दिन में दो बार नाश्ते  के बाद लें । और खाली पेट गंधक रसायन 1 गोली लें । 


      महामंजिष्ठारिष्ठ 2 चम्मच, खदिरारिष्ट 2 चम्मच पानी 4 चम्मच मिलाकर लें।


      महामरिच्यिदि तैल+ तुवरक तैल+करंज तैल + नीम तैल सबको एक मे मिलायें और प्रभावित जगह पर लगायें। 
परहेज- खट्टा, चटपटा, फास्ट फूड, जंक फूड ज्यादा मिर्च मसालेदार भोजन से परहेज करें।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।