ब्लू_टी (नीली चाय)

ब्लू_टी (नीली चाय)


       अक्सर आप सभी ने तमाम तरह की चाय के बारे में काफी सुना होगा। जैसे - ग्रीन टी, रेड टी, लेमन टी और ब्लैक टी आदि किन्तु आप में से बहुत कम लोगों ने ब्लू टी के बारे में सुना होगा जी हाँ, हम बात कर रहे हैं नीली चाय के बारे अब  आप के दिमाग में इस चाय को लेकर बहुत सारी जिज्ञासाएं उठ रही होंगी!


      आप के दिमाग में तमाम तरह के सवाल उठ रहे होंगे जैसे कि - यह चाय कहाँ मिलेगी, यह चाय कैसे बनाई जाती है, इस चाय को पीने से क्या स्वास्थ्य लाभ होगा आदि तो हम आप को बता दें कि हम आप के सभी सवालों के जवाब देने जा रहे हैं।


      यह चाय एक विशेष प्रकार की चाय है जो नीले फूल वाली अपराजिता (Clitoria ternatea) के  फूलों से बनाई जाती है। इस को बनाने के लिए आप को सूखे या ताजा दोनों ही प्रकार के फूलों में से किसी एक प्रकार के फूलों का उपयोग कर सकते हैं।


      इसे बनाने की विधि बहुत ही आसान है। जैसे की हम साधारण चाय बनाते हैं वैसे ही यह चाय बनाई जाती है। बस अन्तर इतना ही की इस चाय में चाय पत्ती के स्थान पर अपराजिता के सूखे या ताजा फूल उबलते हुए पानी में डाल दिए जाते हैं। इस चाय में दूध का उपयोग नहीं किया जाता है।


      एक कप चाय बनाने के लिए अपराजिता के दो से तीन फूल ही पर्याप्त होते हैं। उबलते हुए पानी में अपराजिता के फूल डाल दें.. चाय को स्वादिष्ट बनाने के लिए इस में कुछ बूँद नीबू का रस, इलायची, शहद, अदरक या गुड़ भी डाल सकते हैं। यह आप निर्भय करता है आप को जो पसंद हो वह आप इस में स्वाद बड़ाने के लिए डाल सकते हैं।


      यह चाय स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत ही लाभकारी होती है। इस में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं जो शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। यह चाय शरीर में कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित रखती है और हृदय को मजबूती प्रदान करती है। शरीर की थकावट को दूर करके स्फूर्ति प्रदान करती है।


     अपराजिता के पौधे में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं। यह एक लतावर्गीय पौधा होता है।जो बीज से लगाया जाता है.. अपराजिता का पौधा घर में लगाना वास्तु शास्त्र के अनुसार बहुत ही शुभ फलदायी माना गया है।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।