अदभुत सृष्टि

 अदभुत सृष्टि


                                                                                                 


येन द्योरुग्रा पृथ्वी च दृढा येन स्व स्तभितं येन नाकः।
यो अन्तरिक्षे रजसो विमान: कस्मै देवाय हविषा विधेम।।


यजुर्वेद 32.6 के इस मंत्र में परमात्मा ने उपदेश किया है कि वह ही सब लोकलोकान्तरों का रचने वाला है, वह ही सब ग्रह नक्षत्रों का भ्रमण कराता है। वह ही सबसे महान है। वह ही मोक्षादि सब सुखों का देने वाला है । आओ उस परमपिता परमेश्वर की महिमा का थोडा दिग्दर्शन करें-


जिस ज़मीन पर हम रहते हैं वह एक आम आदमी के मुक़ाबले 20 खरब गुना बड़ी है जबकि हमारा सूरज हमारी ज़मीन से भी 10 लाख गुना बड़ा है । इसके मुक़ाबले में ईटाकैरीनाई (Etacarinae) नाम का मशहूर सितारा हमारे सूरज से भी 50 लाख गुना बड़ा हैै।


इसके बाद बीटल जूस(Betel Geuse) नाम के सितारे का नंबर आता है जो हमारे सूरज से 30 करोड़ गुना बड़ा है। और फिर वी.वाई. कैनिसमैजोरिस (V.Y. Canismajoris) गनाम के सितारे का नंबर आता है जो कि हमारे सूरज से एक अरब  गुना बड़ा है और इन जैसे अरबों सितारे हमारी कहकशां (Galaxy) में मौजूद हैं।


क्या आप जानते हैं कि-


जिस आकाश गंगा /कहकशां (Galaxy) में हम रहते हैं उसका नाम मिल्की वे(Milky Way) है और इसमें हमारे सूरज जैसे 300 अरब से ज़्यादा सूरज मौजूद हैं और यह कहकशां इतनी बड़ी है कि अगर हम किसी ऐसी चीज़ पर सवार हों जो 1 सेकण्ड में 3 लाख किमी0 का फ़ासला तय करती हो (यानी 1 सेकण्ड में दुनिया के 7 चक्कर लगाने वाली गाड़ी हो) तो इसको भी हमारी कहकशां को पार करते-करते एक लाख साल लग जायेंगे।  अब हम अपनी पड़ोसी कहकशां में चलते हैं जिसका नाम एंड्रोमेडा (Andromeda) है, और यह कहकशां हमारी कहकशां से दोगुनी है लेकिन यह भी छोटी ही समझिये क्योंकि एम 81 (M81)नामी कहकशां हमारी कहकशां से 60 गुना बड़ी है। और आई.सी. -1011 (IC-1011) नाम की कहकशां हमारी कहकशां से 600 गुना बड़ी है। लेकिन अभी यह सिलसिला ख़त्म नहीं हुआ…क्या आपको मालूम है कि जिस तरह सितारों से कहकशाएं बनती हैं उसी तरह कहकशाओं से कलस्टर (Cluster)बनते हैं और जिस कलस्टर में हमारी कहकशां है उसका नाम विरगो( Virgo) है और सिर्फ इस एक कलस्टर में 47000 कहकशाएं हैं।  और मामला अभी यही ख़त्म नहीं हुआ, कलस्टर भी आपस में मिलके सुपर कलस्टर (Super Cluster) बनाते हैं और जिस सुपर कलस्टर में हम रहते हैं उसका नाम लोकल सुपर कलस्टर (Local Super Cluster) है। और इस सुपर क्लस्टर में लगभग 100 क्लस्टर हैं और इस सुपर क्लस्टर जैसे लगभग एक करोड़ सुपर क्लस्टर हमारी क़ायनात में मौजूद हैं जो मात्र बिन्दुओं की तरह की नज़र आते हैं। इस सबको सिर्फ़ एक सर्वव्यापी निराकार परमात्मा ने बनाया है,धारण किया है और यही इन सबकी प्रलय करता है। इस अदभुत सृष्टि का बनना बिगडना प्रवाह से अनादि है, सृष्टि उत्पत्ति काल 432 करोड वर्ष है और प्रलय काल भी 432 करोड वर्ष है। समस्त जीवों को उनके कर्मानुसार फल देना वा भिन्न भिन्न योनियों में भेजना भी इसी महान परमेश्वर का काम है।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।