आर्य छंद(दोहा)

आर्य देश के  हम सभी,                                                                               
रखैं देश का ध्यान।                                                               
करें  सदा सम्मान हम,
बढ़े देश का मान।।
     सबका होय समाज मेें,
      सबको मिले सम्मान।
      बढ़ता गौरव आर्य से,
      रखेंअनार्य न मान।।
सुयश कीर्ति सम्मान का, 
बढ़े आर्य से जान।
अन्याय का दमन करें,
रखें न्याय  की आन।।
       वैदिक युग से देश का,
       आर्यावर्त्त सुनाम।
       राष्ट्रधर्म का लक्ष्य हो,
       करैं कर्म निष्काम।।
  


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।