आंचल

      आंचल                                                                                                        


मां के आंचल में हर बच्चे का
हमेशा जीवन सुरक्षित रहता है ।
मां की ममता स्नेह प्यार भी
मां के आंचल में ही मिलता है ।


भूख लगे तो बच्चा रोता है
मां आंचल का दूध पिलाती है ।
दूध पीकर बच्चा खुश होता है
मां भी तो खुश हो जाती है ।


मां बच्चे के बीच का रिश्ता
बहुत ही नाज़ुक होता है ।
बच्चे के हर सुख दुख का 
मां को ही हरदम होता है ।


उठने बैठने चलने में जब भी
बच्चे को चोट भी लगती है ।
चोट लगे तो बच्चा रोता है
और दर्द मां को भी होता है ।


बच्चे को उठाती सीने से लगाती
चूमती और गले से भी लगाती
आंचल का भी वो दूध पिलाती ।
बच्चे की चोट से दुखी भी होती ।


मां और बच्चे का स्नेह प्यार
देखकर मन खुश हो जाता है ।
अपने बचपन की यादों में
कुछ पल को मन खो जाता है ।
    


 


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।