आज का वेदमंत्र

 आज का वेदमंत्र,                                                                                                           


याभिः परिज्मा तनयस्य मज्मना द्विमाता तूर्षु तरणिर्विभूषति।
याभिस्त्रिमन्तुरभवद्विचक्षणस्ताभिरू षु ऊतिभिरश्विना गतम्॥ ऋग्वेद १-११२-४।।


हे सर्वत्र गमन करने वाली वायु, पवन ऊर्जा, जल के स्रोत की  शक्तियां हमारी सुरक्षात्मक शक्तियों को सुशोभित करें।  आप अग्नि और जल की प्रमाण करने वाली हो।  तुम शीघ्रतम से शीघ्र हो। आप उन विद्वान लोगों के लिए अद्भुत मार्गदर्शक हो जो ज्ञान, कर्म और उपासना द्वारा अपने लक्ष्य की प्राप्ति में लगे हैं। 


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।