World Diabetes Day

World Diabetes Day


जानें लक्षण से लेकर खान-पान व बचाव तक सबकुछ।


        इंटरनैशनल डायबीटीज फेडरेशन के मुताबिक, दुनियाभर में आज के समय में करीब 42.5 करोड़ की आबादी डायबीटीज का शिकार है। सोचिए कि यह बीमारी कितना गंभीर रूप ले चुकी है और कितनी तेजी से पांव पसार रही है। शहर ही नहीं बल्कि गांवों में भी अब यह बीमारी तेजी से फैल रही है। हालांकि सही मैनेजमेंट और लाइफस्टाइल व खान-पान के जरिए डायबीटीज को कंट्रोल किया जा सकता है।


       वैसे तो अब डायबीटीज के ट्रीटमेंट के लिए कई तरह की दवाइयां और इलाज आ गए हैं। लेकिन फिर भी इस बीमारी को लेकर एहतियात बरतने की सख्त जरूरत है। सबसे पहले तो यह जान लें कि डायबीटीज कैसे होता है। 
कैसे होता है डायबीटीज? 


       दरअसल हमारे शरीर में पेन्क्रियाज में मौजूद इंसुलिन फूड में मौजूद ग्लूकोज को सेल्स द्वारा अब्जॉर्ब करने में मदद करता है ताकि उसका इस्तेमाल एनर्जी के लिए किया जा सके। जब इंसुलिन का स्तर घटने लगता है तो फिर ब्लड में ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाता है जो डायबीटीज का रूप ले लेता है।


डायबीटीज के लक्षण 


        बार-बार पेशाब आना, खासकर रात के वक्त पेशाब करने के बाद पेशाब में चीटियां जमा हो जाना। बहुत ज्यादा प्यास लगनाऔर मुंह में चिपचिपापन रहना।पसीने में बदबू ज्यादा होना फोड़े-फुंसियां ज्यादा होना घाव का जल्दी न भरना।


किन लोगों में डायबीटीज होने का ज्यादा खतरा? 


1- वजन ज्यादा होने और हाई ब्लड प्रेशर होने पर व्यक्ति डायबीटीज की चपेट में आ सकता है। 
2- अगर शरीर में कलेस्ट्रॉल का स्तर अधिक हो जाए तो भी व्यक्ति डायबीटीज का शिकार हो सकता है। 
3- दिल के मरीजों और 40 साल से अधिक उम्र लोगों में डायबीटीज होने का खतरा अधिक रहता है। 
4- आयुर्वेद के अनुसार, वैसे लोग जो उल्टी-सीधी चीजों का सेवन करते हैं, आलस से भरी जिंदगी जीते हैं, नया अनाज ज्यादा खाते हैं, दही का ज्यादा सेवन करते हैं और मीठी चीजें ज्यादा खाते हैं, वे डायबीटीज का शिकार हो सकते हैं।
5- डायबीटीज होने का कारण है गलत लाइफस्टाइल, खराब खान-पान व आदतें, मोटापा और हॉर्मोन्स का असंतुलन। ये सब चीजें ठीक कर ली जाएं तो फिर डायबीटीज से बचा जा सकता है।


डायबीटीज के प्रकार 


यह दो तरह की होती है-टाइप 1 और टाइप 2।


         टाइप 1 डायबीटीज बचपन में अचानक इंसुलिन हॉर्मोन का बनना बंद होने के कारण होती है। इसमें बढ़ते ब्लड शुगर को कंट्रोल करने के लिए इंसुलिन का इंजेक्शन लेने की जरूरत होती है। 


        टाइप 2 डायबीटीज- यह आमतौर पर गलत लाइफस्टाइल, मोटापा और बढ़ती उम्र में होती है। इसमें शरीर में इंसुलिन कम मात्रा में बनता है। आंकड़ों के अनुसार, डायबीटीज के ज्यादातर मरीज टाइप 2 डायबीटीज की कैटिगरी में ही आते हैं। अकेले भारत में ही करीब 10 लाख लोग टाइप-2 डायबीटीज का शिकार हैं। अभी भारत में डायबीटीज से पीड़ित 25 वर्ष से कम आयु के हर 4 लोगों में से 1 को टाइप 2 डायबीटीज है।


डायबीटीज में मीठे के अलावा इन चीजों को खाने से बचें- 


1- सूखे फल और ड्राई फ्रूट्स - इनमें मौजूद शुगर हाई कॉर्बोहाइड्रेट की मात्रा के कारण डिस्टर्ब हो जाता है। इसलिए सूखे हुए, पुराने फल खाने की बजाए फ्रेश और सिजनल फ्रूट खाएं। 


2- फ्लेवर्ड योगर्ट-प्लेन योगर्ट में प्रोबायोटिक्स पाए जाते हैं जो कि डायबीटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद होते हैं लेकिन फ्लेवर्ड योगर्ट में यह गायब होता है जो ब्लड शुगर के लेवल को बढ़ा सकता है। 


3- दाल, रोटी, चावल, सब्जी और सलाद जैसे फुल मील की जगह रोटी, सब्जी, सलाद, एग वाइट या स्किम पनीर लें। सब्जियों में आलू, मटर, और कॉर्न अवॉइड करें। इसके अलावा वाइट पास्ता खाने के शौकीन हैं, तो उससे भी दूरी बनाकर रखें।


4- डायबीटीज के मरीजों को बीफ, सामन जैसे फूड आइटम्स खाने से भी बचना चाहिए। इनमें सैचरेटेड फैट काफी मात्रा में पाया जाता है। जो कलेस्ट्रॉल का स्तर भी बढ़ाता है। साथ ही इससे डायबीटीज के मरीजों को दिल से जुड़ी बीमारियां भी हो सकती हैं। 


5- इसके अलावा पैकेज्ड फूड जैसे चिप्स, कुकीज, पीनट बटर जैसी चीजों से भी दूरी बनाकर रखें। ये शरीर में शुगर लेवल को बढ़ा सकते हैं। 


6- डायबीटीज के मरीजों को प्रोसेस्ड शुगर लेने से मना किया जाता है ऐसे में लोग नैचरल शुगर लेते हैं। लेकिन इस नैचरल शुगर में भी कार्ब्स पाए जाते हैं जो कि बल्ड शुगर पर वही प्रभाव डालता है जैसे कि वाइट शुगर। 


      डायबीटीज से बचने के लिए और क्या करें? 


- डायबीटीज से बचना है तो रोजाना एक्सर्साइज करें और वजन को कंट्रोल में रखें 


- धूम्रपान और शराब का सेवन न करें और आलू, अरबी व शकरकंद जैसी चीजें बिल्कुल भी न खाएं। 


        डायबीटीज के इलाज में 'रामबाण' है अमरूद 
       अमरूद को डायबीटीज के इलाज में सबसे पावरफुल फ्रूट माना जाता है। इसमें डायटरी फाइबर अत्यधिक मात्रा में होता है, जो कब्ज को दूर करने में मदद करता है। डायबीटीज के मरीजों को अक्सर कब्ज की समस्या रहती है। एक स्टडी के अनुसार, अमरूद का ग्लाइसिमिक इंडेक्स बहुत कम होता है, जिसकी वजह से यह डायबीटीज के मरीजों के लिए एकदम फायदेमंद है। 


       आयुर्वेद के अनुसार, डायबीटीज में खाएं ये चीजें 


- सब्जियों में करेला, पालक, लौकी, सहजन, कड़ी पत्ता, खीरा, परवल, मेथी, चने का साग, नींबू, टमाटर आदि खाएं। 


- फलों में संतरा, आंवला, मौसमी, सिंघाड़ा, पपीता, जामुन आदि खाएं। ध्यान रखें कि जामुन के बजाय जामुन की गुठली ज्यादा फायदेमंद है। गुठली को सुखाने के बाद पीसकर पाउडर बना लें, फिर खाएं। 


- जौ और चने के आटे से फायदा होता है। गेहूं, सोयाबीन आदि का मिक्स आटा भी अच्छा है। जितना हो सके, पुराना अनाज खाएं।- मूंग, चना, कुल्थी की दालें अच्छी हैं।


- खाने में सरसों का तेल इस्तेमाल करें। सुपरफूड है सत्तू, डायबीटीज रखता है नियंत्रितबरतें सतर्कता, डायबीटीज रहेगी दूर । 
- डायबीटीज को दूर करने के लिए नियमित रूप से अपना ब्लड शुगर टेस्ट कराएं। खाने से पहले और बाद में ब्लड शुगर के स्तर में क्या अंतर है, इसका रेकॉर्ड रखें। अगर यह स्तर 100-125mg/dL से ज्यादा हो तो सतर्क हो जाएं और तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। 


- ऐसा खाना खाएं जिसमें कैलरी कम हों। तीन वक्त खाना खाने के बजाय थोड़ा-थोड़ा करके 6-7 बार खाएं। 


- टेंशन और स्ट्रेस को दूर रखें व भरपूर नींद लें। इसके अलावा रेग्युलर हेल्थ चेकअप कराएं। 


- सामान्य आटे की रोटियां खाने के बजाय जौ, चना और गेंहूं एक साथ पिसवा लें और उस आटे की रोटियां खाएं।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।