तैत्तिरीयोपनिषद्

तैत्तिरीयोपनिषद्


15. तैत्तिरीयोपनिषद् में 3 वल्लियां हैं। (1) शिक्षा वल्ली, (2) ब्रह्मानन्द वल्ली, (3) भृगुवल्ली ।


16. तैत्तिरीयोपनिषद् के अनुसार मानव शरीर में . निम्नलिखित 5 कोष हैं- (1) अन्नमय कोष-स्थूल शरीर (2) प्राणमय कोष, मनोमय कोष, विज्ञानमय कोष (आत्मा)-सूक्ष्म शरीर, आनन्दमय कोष-कारण शरीर


 


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।