कोई भी काम करें, बहुत सोच समझ कर करें

       कोई भी काम करें, बहुत सोच समझ कर करें। अपने से बड़े अनुभवी लोगों से सीख कर करें । उनके निर्देश में रहकर काम करें , तो आपको सफलता अवश्य मिलेगी।
       कभी-कभी कोई व्यक्ति नया आविष्कार करता है, वह भी अपने बड़े बुजुर्गों की सलाह सम्मति लेकर, उनसे सीखकर ही कुछ नया प्रयास करता है। उसमें वह कभी सफल हो जाता है, और कभी कभी असफल भी होता है। 
       तो जो लोग नए नए प्रयोग करते हैं, वे भी केवल अपनी मनमानी न करें। अनुभवी लोगों के सहयोग और निर्देश का लाभ अवश्य लें। फिर किसी नए प्रयोग में यदि सफलता मिली तो बहुत उत्तम  ; और यदि कहीं कुछ असफलता रही भी, तो भी उस प्रयोग से काफी कुछ नया सीखने को अवश्य मिलता है। तो जो विशेष लोग हैं, वे नए प्रयोग करें, सब लोग नहीं। 
       शेष सामान्य व्यक्ति तो बड़े अनुभवी लोगों के निर्देश में ही बुद्धिमत्ता ईमानदारी और मेहनत से काम करें , तो वे अधिक सुख प्राप्त कर पाएंगे। यदि अपनी मनमानी करेंगे, तो बहुत दुख और हानियां उठानी पड़ेंगी। फिर लौटकर आखिर तो वहीं आना होगा, जो बड़े अनुभवी लोगों ने कहा था। उन्हीं की बात फिर से माननी ही होगी, तभी कल्याण होगा, अन्यथा नहीं


- स्वामी विवेकानंद परिव्राजक


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।