हमारा जीवन


       🌹हमारा जीवन ईश्र्वर का दिया हुआ सर्वश्रेष्ठ उपहार है, इस जीवन रूपी उद्यान को सुगंध से परिपूर्ण बनाने के लिए तथा स्वयं को भी संतुष्ट रखने के लिए कुछ बातें ध्यान में रखनी अति आवश्यक हैं, यदि इन बातों को हम सदैव ध्यान में रखें तो निश्र्चित रूप से हमें सही मायनों में आत्मि क शान्ति का सुख प्राप्त हो सकेगा।


       🌹कभी भी किसी से कुछ पाने की आशा न करें, क्योंकि यह जरूरी नहीं कि किसी व्यक्ति से की गई आपकी अपेक्षाएं हमेशा पूरी ही हों, आशा के विपरीत होने पर हो सकता है कि आपका मन दुःख पाये, इसलिए कोई अपेक्षा ही क्यों रखी जाए।


       🌹सदैव धीरज से काम लें, क्योंकि रास्ते लम्बे होते हैं, लेकिन अंतहीन नहीं, कोई भी कदम उठाने से पहले सोच-विचार लें, क्रोध को अपने वश में रखें,क्योंकि क्रोध मूर्खता से आरंभ होता है और पश्र्चाताप पर समाप्त होता है।
     


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।