गायत्री मंत्र में बुद्धि की कामना नहीं की हैअपितु कहा गया है , हे! परमात्मा आप हमारी बुद्धि को श्रेष्ठ मार्ग पर ले चलें ।

गायत्री मंत्र #Gayatri_mantra #vaidik_rashtra गायत्री मंत्र में बुद्धि की कामना नहीं की है अपितु कहा गया है , हे! परमात्मा आप हमारी बुद्धि को श्रेष्ठ मार्ग पर ले चलें ।
बुद्ध की कामना
ओं यां मेधां देवगणाः पितरश्चोपासते । तया मामद्य मेधयाग्ने मेधाविनं कुरु स्वाहा ।।
~ इस मंत्र में बुद्धि मांगी गई है जिस प्रकार से देवता और पितर लोग बुद्धि की कामना करते थे, उपासना करते थे वैसे ही बुद्धि हमको आज अभी मिले, ऐसी प्रार्थना इस मंत्र में की गई है ।..
गायत्री मंत्र में तो कहा गया ;–है! परमात्मा हमारी बुद्धि श्रेष्ठ मार्ग की ओर चलें, अच्छे मार्ग की ओर चलें । गायत्री मंत्र का इसमें पद्य अनुवाद भी दिया गया है ।
आप सभी वेद – वैदिक शास्त्र से संबंधित धार्मिक- सामाजिक – राष्ट्रीय – आध्यात्मिक ज्ञान चर्चा को जानने – समझने के लिए #वैदिक_राष्ट्र यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें ।धन्यवाद । #vaidik_rashtra #वैदिक_राष्ट्र #वैदिक_राष्ट्र यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें । धन्यवाद 


https://youtu.be/C1wckpV7jYA


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।