ईसा और मरियम 1

यदि मरियम को बिना किसी पुरूष के संयोग गर्भ रह गया होता तो ईसा का जन्म न होकर वह केवल हड्डी, नाखून, दाडी-मूंछ विहीन, मात्र रक्त और मांस का एक निर्जीव लोथड़ा ही पैदा होता, न कि “ईसा" नाम का मनुष्य पैदा होता। अतः बाइबिल का यह कहना कि- "बिना पुरूष से संयोग हुए मरियम को कुंआरेपन में ईसा का गर्भ रह गया था" एक निरर्थक गल्प अर्थात् गपोड़ा ही है। बाइबिल का यह कहना है कि- “गर्भ पवित्र आत्मा से ठहरा था" यह कथन भी विवादास्पद है। पवित्रात्मा से तात्पर्य यदि किसी पवित्र फरिश्ते से लिया जायेगा तो बाइबिल की बात स्पष्ट गल्प सिद्ध होगी क्योंकि ईसाई व इस्लाम में फरिश्तों का मनुष्य जैसी हाड़-मांस व शक्ल आदि की देह नहीं मानी गई और वीर्य तत्व की उत्पत्ति चालू सृष्टि में केवल हाड़-मांस के शरीर में ही हो सकती है। जिससे बालक का शरीर गर्भाश्य में बन सकता है। फरिश्ते चाहे वे पवित्रात्मा हों या दुरात्मा? वे बिना शरीर वाले होने से गर्भाधान नहीं कर सकते। हाँ ! यदि पवित्रात्मा का अर्थ पवित्र पुरूष लिया जायेगा तो अविवाहित मरियम के उस आदमी के साथ संयोग करने से गर्भ रहना प्रत्येक दृष्टि से सम्भव हो जायेगा।ohori किन्तु ऐसा मानने पर ईसा का जन्म कोई चमत्कार नहीं रह जावेगा। साथ ही मरियम का अविवाहित अवस्था में किसी पुरूष से संयोग होना देवी मरियम के चरित्र की कमजोरी भी सिद्ध करेगा। किन्तु बाइबिल किसी मर्द से देवी मरियम का विवाह से पूर्व संयोग होना स्वीकार नहीं करती है। ऐसी दशा में फरिश्ते से देवी मरियम को गर्भाधान हो जाने की बात भी नहीं मानी जा सकती है। ईसा के गर्भ रहने की कहानी के सम्बन्ध में बाइबिल में साफ-साफ लिखा है कि___परमेश्वर की ओर से गब्रिएल नामक स्वर्गदूत गलील प्रदेश के नासरत नगर में एक कुँआरी के पास भेजा गया ॥२६॥ जिसकी मंगनी राजा दाऊद के वशंज यूसुफ नामक पुरूष से हुई थी उस कुँआरी का नाम मरियम या ॥२७॥ स्वर्गदूत ने उससे कहाहे मरियम! भयभीत न हो क्योंकि परमेश्वर का अनुग्रह तुझ पर हुआ है ॥३०॥ और देख तू गर्भवती होगी, और तेरे एक पुत्र उत्पन्न होगा, तू उसका नाम 'यीशू' रखना ॥३१॥ मरियम ने स्वर्गदूत से कहा। यह कैसे सम्भव होगा? मैं तो उस पुरूष को जानती ही नहीं ॥३४॥ स्वर्गदूत ने उसको उत्तर दिया किपवित्र आत्मा तुझ पर उतरेगा, और परम प्रधान परमेश्वर का सामर्थ्य तुझ पर छाया करेगा, इसलिए वह जो आपसे उत्पन्न होने वाला है पवित्र होगा और परमेश्वर का पुत्र कहलाएगा ॥३५॥ मरियम ने कहादेख मैं प्रभू की दासी हूँ मुझे तेरे वचन के अनुसार गर्भ हो। तब स्वर्गदूत उसके पास से चला गया ॥३८॥


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।