बाहरीलोग

त्रिएक परमेश्वर का सिद्धांत बाहरी लोगों के लिए एक बड़ी बाधा है। यदि यीशु परमेश्वर हैं और वह परमेश्वर पिता से अलग व्यक्ति हैं, और यदि पवित्र आत्मा एक अलग व्यक्ति हैं, तो बाहरी लोग तुरंत सोचते हैं कि ईसाई धर्म तीन अलग-अलग देवताओं के अस्तित्व को सिखाता है।


यहूदियों के लिए, त्रिएक परमेश्वर का सिद्धांत अपने और ईसाइयों के बीच निर्णयकारी (बड़ा) अंतर है। यहूदी कर्मकाण्डों में केंद्रीय प्रार्थना के रूप में जाना जाता है श’मा - “हे इसराइल सुन, यहोवा हमारा परमेश्वर, यहोवा एक ही है” । ये व्यवस्था ६:४) में उल्लिखीत शब्द हैं । रूढ़िवादी यहूदी रोज श’मा का पाठ करते हैं। कई यहूदियों को अतीत में कलीसिया के हाथों मौत के घाट उतार दिया गया था और मरते समय उनके होठों पर श’मा के शब्द थे ।


मुसलमान भी इस तथ्य पर जोर देते हैं कि अल्लाह (ईश्वर के लिए अरबी शब्द) एक है। उनमें से कई सोचते हैं कि ईसाई तीन देवताओं की पूजा करते हैं।


यहोवा के साक्षियों के लिए, त्रिएक परमेश्वर का सिद्धांत अक्सर आरम्भिक बिंदु है जो वे कलीसिया के सदस्यों को दिखाने के लिए उपयोग करते हैं कि कलीसिया की शिक्षाएं झूठी हैं।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।