सौन्दर्य परिपक्वता में

सौन्दर्य परिपक्वता में



      कच्ची ईंटों की दीवार या फर्श में कोई टीप नहीं करता। न. सुर्ती चूना भरा जाता है और न ही सीमेंट का पलस्तर हो सकता है। पक्की ईंटों पर ही टीपसुर्जी, चूना, पलस्तर, सीपैट हो सकता है और हुआ - करता है। ऐसे ही जिनका चरित्र परिपक्व होगया उनसे शोभा और सौन्दर्य बढ़ता है।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।