संस्कार से ही बनती है

संस्कार से ही बनती है


संस्कार से ही बनती है,
वृत्ति पर उपकार की।
जिनके बच्चे संस्कारी हैं
चिंता ना परिवार की।।
जिनको चाहिए हर सुख सम्पत्ति,
बच्चों को संस्कार दें।
स्वयं गठित हों आदर्शों से,
शुद्ध सरल व्यवहार दें।
जैसे दाल में हींग छौंक से,
दाल स्वाद बढ़ जाता है।
वैसे संस्कारों के छौंक से,
परिवार स्वर्ग बन जाता है।
जिनके घर में पंच यज्ञ,
में शामिल हो पूरा परिवार।
उस घर कभी न विपदा आये,
खुशियों का लगता अम्बार।
कहे विमल अपने बच्चों संग,
दान यज्ञ के कार्य करो।
गृह समाज राष्ट्र उन्नति हित,
सुसन्तति तैयार करो।।



                                  


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।