संसार में कुछ कार्य ऐसे होते हैं

संसार में कुछ कार्य ऐसे होते हैं


          संसार में कुछ कार्य ऐसे होते हैं जिनको करने से भविष्य में लाभ दिखता है। कुछ कार्य ऐसे होते हैं जिनमें लाभ नहीं दिखाई देता। बुद्धिमान व्यक्ति उन कार्यों में समय लगाता है जिन का भविष्य में लाभ दिखता है। जिन कार्यों में लाभ नहीं दिखता, बुद्धिमान व्यक्ति उन पर समय खर्च नहीं करता।


         इसी प्रकार से संसार में कुछ लोग विश्वासपात्र होते हैं और कुछ लोग धोखेबाज।
बुद्धिमान व्यक्ति, उन व्यक्तियों पर विश्वास करता है जिनसे भविष्य में सुख मिलने की आशा हो, जिन पर विश्वास करना उचित हो। जिन लोगों पर संशय हो, बुद्धिमान व्यक्ति उन पर विश्वास नहीं करता। ऐसा करना बुद्धिमत्ता है, और सुखदायक है।


         परंतु मूर्ख लोग, अज्ञानी लोग, बिना परीक्षा के काम करने वाले लोग, या जल्दबाजी वाले करने वाले लोग, अनेक बार जीवन में धोखा खाते हैं। वे हानिकारक कार्यों में समय लगाते हैं, और बाद में उन्हें बहुत निराशा झेलनी पड़ती है। ऐसे मूर्ख व अज्ञानी लोग,  धोखेबाज तथा बेईमान लोगों पर विश्वास करते हैं; जो उन्हें बाद में धोखा देते हैं, उनका बहुत कुछ छीन या लूट लेते हैं। फिर बाद में ऐसे अज्ञानी लोग बहुत पश्चाताप करते हैं। 


        अब क्या लाभ? पहले से बुद्धिमत्ता करनी चाहिए थी। अपनी बुद्धि को बढ़ाना चाहिए था। कैसे?  वैदिक शास्त्रों का अध्ययन करना चाहिए, आर्य विद्वानों के संपर्क में रहना चाहिए, उनसे बुद्धिमत्ता सीखनी चाहिए। दूसरों का परीक्षण करना आना चाहिए। न आता हो तो बड़े बुजुर्गों तथा विद्वानों की सहायता से उसे सीखना चाहिए। 
          इस प्रकार से यदि आप अपनी बुद्धि का विकास करेंगे और सदा सावधान रहेंगे, तो ऐसी बहुत सी दुर्घटनाओं से आप बच पाएंगे। आपका जीवन सुखमय होगा। 
यदि आपने इतनी सावधानी नहीं रखी, तो संसार में हजारों लाखों लोग आपको धोखा देने के लिए, लूटने के लिए, आपकी भावनाओं से खेलने के लिए तैयार बैठे ही हैं। 


- स्वामी विवेकानंद परिव्राजक


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।