साधारण या महात्मा की चिकित्सा

साधारण या महात्मा की चिकित्सा



      साधारण व्यक्ति जब रोगी होता है-तब उसकी तो साधारण रीति से दवाई हुआ करती है। पर जब कोई देश या जाति का सरदार (प्रधान व्यक्ति) रोगी होता है-तो डाक्टरों और वैद्यों की दवाओं के अतिरिक्त तुरन्त ही समाचार पत्रों द्वारा घोषणाएं निकलती हैं, कि देश और जाति के सब लोग, छोटे-बड़े परमात्मा से प्रार्थना करें । एवं तब तक बड़ी लग्न से प्रार्थना की जाती है, जब तक वह भयानक दशा से बाहर होकर स्वस्थ नहीं हो जाता। राजा हो या सम्राट, नेता हो या महान्-अात्मा-महापुरुष हो ।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।