पूरे तप से मन पकता है

पूरे तप से मन पकता है



      तवे के नीचे आग जल रही हो, तवे को अभी सेंकन लगे, और रोटी डाल दी जावे-तो रोटी नहीं पक सकती। और यदि सेंक धीमा-धीमा हो, तवा पूर्ण गर्म न हो, तो वह भी रोटी ठीक नहीं पकेगी। ऐसे ही जब तक जप-तप आदि से पूर्णतया आत्मा भरपूर नहीं-तब तक वह सफल नहीं होती तथा मन की संकल्प-शक्ति प्रभावित नहीं कर सकती।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।