मंजिल को पाने बढ़ो एक लक्ष्य साधकर

मंजिल को पाने बढ़ो एक लक्ष्य साधकर,
डर वाली बातें बेअसर होनी चाहिए।


सबसे अलग यदि पहचान चाहते हो,
शक्ति-साधना भी तो प्रखर होनी चाहिए।


असफलता ही बने सोपान सफलता का
राह के कंटकों को खबर होनी चाहिए।


पँहुचायेगी ही राह मंजिल के द्वारे तेज
लक्ष्य पे रहे सदा नजर होनी चाहिए।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।