खुद पे ना गुमान कर तू ,

खुद पे ना गुमान कर तू ,


खुद पे ना गुमान कर तू ,
देश का भी मान रख ।
तुझसे ही यह देश अपना ,
देश पे तू जान रख ।।
याद कर कुर्वानियां वो,
देश पर जो मर मिटे थे ।
है सुरक्षित देश जिनसे ,
उनका भी सम्मान रख ।।


लड़ रहे आपस में देखो ,
देश की करते हैं बात ।
स्वार्थ पूरा करने को
देश पर करते हैं घात ।
खो रहे अभिमान अपना ,
हो रहे हैं मद में चूर ।
कुर्सी की खातिर ये देखो ,
करते हैं कैसे उत्पात ।।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।