जाति के सोने का कारण

 जाति के सोने का कारण



      जो व्यक्ति रात को देर तक जागता है और देर से सोता है, वह फिर शीघ्र नहीं जाग सकता । यदि उसे जगा भी दिया जाये तो वह जो काम करेगा उसमें ही उसे नींद आती रहेगी। यह एक प्राकृतिक नियम हैठीक इसी प्रकार जो जाति बहुत कोल जागकर करोड़ों वर्ष तक जाग-जाग सोई हो, वह अब जगाने पर कैसे जाय सकती है ? हमारी जाति को जो जगाता भी है, फिर यह बेचारी ऊंघ लेने और सोने लग जाती है । इसे सब सुनाया, पढ़ाया और दिखाया भूल जाता है। इसी कारण हमारी हिन्दू जाति अभी संभल नहीं रही।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।