ईश्वर से प्रार्थना

*ओ३म्*


*ईश्वर से प्रार्थना*_


*ओ३म्  सर्वात्मा सच्चिदानन्दोऽनन्तो यो न्यायकृच्छुचिः।*
*भूयात्तमां सहायो नो  दयालुः सर्वशक्तिमान्॥*


हे परमात्मा ओ३म्, आप  सबके आत्मा, सत्-चित्-आनन्दस्वरूप, अनन्त,  अज,  न्याय  करने  वाला, निर्मल, सदा  पवित्र,  दयालु, सब सामर्थ्यवाले हमारेे  इष्टदेव  है,    हम सबको हमारे कर्मो में  सहाय  नित्य  देवे,  जिससे महाकठिन  काम भी हम लोग सहज से करने को समर्थ हों। हे कृपानिधे!   यह काम हमारा आप ही सिद्ध करनेवाले हो, हम आशा करते हैं कि आप अवश्य  हमारी  कामना  सिद्ध करेंगे॥ 


*कार्य को करने से पहले ईश्वर से सहायता जरूर लेवे। ईश्वर आपको दिशा दिखाएगा, वह हमेशा आपके साथ है।*


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।