ईश्वर मन और बुद्धि को पवित्र करें


*वेदवाणी*
इन्द्रमिद्धरीवहतोऽप्रतिधृष्टशवसं।
 ऋषीणां सुष्टुतीरुप यज्ञं च मानुषाणां।। ऋग्वेद १-८४-२।।
*भावार्थ*
ईश्वर उन लोगों के मन और बुद्धि को पवित्र करें, जो उसकी उपासना करते हैं, और जनहित के कार्य करते हैं।  जो अपनी इंद्रियों पर नियंत्रण करने का प्रयास करते हैं, ज्ञानेंद्रियों को निरंतर ज्ञान प्राप्ति में लगाते हैं, और कर्मेंद्रियों से मानव हित कार्य  करते हैं।
*काव्यार्थ*
जो जन करते प्रभु उपासना,
जनहित परोपकार के कार्य।
होता तन मन बुद्धि पावन,
कृपापात्र वे ही कर्त्तार।
इंद्रियजीत होने जो बढ़ते,
उनकी इन्द्रियाँ होतीं सफल।
ज्ञानेन्द्रिय से ज्ञान बढाते,
कर्मेन्द्रिय से कर्म विमल।
ऐसे इद्रियजय व्यक्ति ही,
जनहित कार्यों को कर पाते।
त्याग तपस्या सेवा समर्पण,
प्रभु भक्ति कर प्रभु को रिझाते।।
   वास्तव में
ईश्वर भक्त की पहली शर्त ही यह है, व्यक्ति ईश्वरीय आज्ञा में  इंद्रियजित्त-बलशाली हो ईश्वर पुत्रों को सुख पहुंचाता हुआ निरन्तर ईश्वर की ओर बढ़ता रहे। बली तो रावण भी था विभीषण भी।
परन्तु श्री राम की शरण विभीषण को ही प्राप्त हुई।
-आचार्या विमलेश बंसल आर्या
🙏🙏🙏🙏🙏


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।