भूखे नंगे देखते , आया क्या नव साल ।

भूखे नंगे देखते , आया क्या नव साल ।
जैसे पहले हम रहे , बदला अपना हाल ।।
बदला अपना हाल , वसन जो  फटा पुराना ।
रहते  हम खुशहाल ,कहे क्या हमें जमाना ।।
कहते संत फकीर ,  बुरे जन करते दंगे ।
फोड़ो बम तुम आज ,रहे हम भूखे नंगे ।।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।