भक्त ब्रह्मज्ञानी के अपमान का फल

भक्त ब्रह्मज्ञानी के अपमान का फल



      जो मनुष्य किसी भक्त-ब्रह्मज्ञानी का अपयश करता है, अपमान करता है उसकी वह शक्ति क्षीण (नष्ट) होने लगती है जिस पर उसको अभिमान होता है । अपने धनबल का अभिमान होगा तो धन, मान-प्रतिष्ठा का अभिमान होगा तो मान-प्रतिष्ठा, विद्या-बुद्धि एवं जिस गुण का अभिमान होगा, और उस गुण के अभिमान में दूसरे का अपमान करेगा, वही गुण उसका घटेगा।


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।