भारतीय संस्कृति


भारतीय संस्कृति




              भारतीय संस्कृति एवं भाषाओं के रक्षार्थ समर्पित हैदराबाद यात्राःएक अनुभव


         ऋग्वेदादि सहित सम्पूर्ण वैदिक आर्ष वाङ्मय ने यह प्रमाणित किया है कि प्राचीन विश्व में आर्य सर्वाधिक प्रतिभाशाली और शौर्यवान् थे। उन्होंने एक महान् संस्कृति को जन्म दिया। जिसकी श्रेष्ठता को प्रायः सभी आधुनिक विद्वान् स्वीकारते हैं। सच्चा ज्ञान सदा एक रस होता है, वह काल के बंधन में नहीं बँधता। अतः वैदिक ज्ञान आज की नवीनता से ही नवीन है। इस ज्ञान की हद में ही सृष्टि की सारी बातें हैं। महाप्राण 'निराला' के शब्दों में- ''जो लोग कहते हैँ कि वैदिक अथवा प्राचीन शिक्षा द्वारा मनुष्य उतना उन्नत्तमना नहीं हो सकता, जितना अंग्रेजी शिक्षा द्वारा होता है, महर्षि दयानन्द इसके प्रत्यक्ष खण्डन हैं।''
संस्कृति के निर्माण में भाषा का महत्त्वपूर्ण स्थान होता है। जब किसी देश की भाषा का ह्रास होता है तो वहाँ की संस्कृति भी प्रभावित होती है, मिट तक जाती है। हमारे सांस्कृतिक जीवन में यहाँ की भाषाओं का विशेष योगदान है। भाषा और संस्कृति का अन्योन्याश्रित संबंध होता है। १८३५ ई. में मैकाले ने अंग्रेजी भाषा के माध्यम से हमारे दश में एक भिन्न संस्कृति को प्रविष्ट कराने का प्रयास किया। इसका उद्देश्य बताते हुये स्वयं मैकाले ने लिखा था-
             ''अंग्रेजी पठित वर्ग रंग से भले ही भारतीय दिखेगा, परन्तु आचार-विचार, रहन-सहन, बोल-चाल और दिल-दिमाग से पूरा अंग्रेज बन जायेगा।'' आजादी की भोरवेला में जब हमारा देश किसी नौनिहाल की तरह लड़खड़ाकर चलने की कोशिश कर रहा था तब भी गुलामी की मानसिकता में पले और दीक्षित हुये हमारे ही कुछ कर्णधारों ने देशभक्तों की भावनाओं का अनादर करते हुये भारतीय भाषाओं को पनपने नहीं दिया और अंग्रेजी को स्वतंत्र भारत में भी 'साम्राज्ञी' बनाये रखा। आज अंग्रेजी माध्यम के प्राइवेट स्कूलों की बाढ़ आई हुई है और ऐसे स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाना सामाजिक प्रतिष्ठा का प्रतीक बन गया है। सैम पित्रोदा के 'ज्ञान आयोग' की सिफारिश ने तो हमारे बच्चों को मातृभाषा से लगभग विमुख ही कर दिया । वे संस्कृत हिन्दी क्षेत्रीय भाषाओं और देवनागरी जैसी वैज्ञानिक लिपि से ही न सिर्फ वंचित हुये अपितु इन भाषाओं में विद्यमान उदात्त सांस्कृतिक मूल्यों व ज्ञान से भी दूर हो गये। आज अंग्रेजी शिक्षा प्राप्त युवकों में जो नई संस्कृति जन्म ले रही है, वह स्वच्छन्द भोगवादी, पश्चिम की नकल और अपनी जड़ से कटी हुई है अधकचरी अंग्रेजी की नाव पर सवार हमारे भावी नागरिक न इस घाट के हैं, न उस घाट के। ऐसे में हमारी उदात्त सांस्कृतिक अस्मिता और विशिष्ट भारतीय पहचान  का क्या होगा?


      निश्चित रूप से भारतीय जाति की संस्कृति व जीवन मूल्यों को जीवित रखने के लिये, देश वासियों में अखण्ड राष्ट्रीय भावना को परिपुष्ट करने हेतु आज संस्कृत, हिन्दी को तथा भारतीय संस्कृति की धारा को प्रवाहहीन होने से बचाना होगा। हमारी संस्कृति में जो भी सर्वश्रेष्ठ व चिरन्तन सत्य है, प्राचीन ऋषियों से हमें जो दाय प्राप्त हुआ है उसका लाभ हमारे सभी देशवासी व सारी मानव जाति उठा सके इसके लिये तकनीकी स्तर पर एक सार्थक प्रयास करने की आवश्यकता है। यदि यह सुविधा बन जाय कि बिना अंग्रेजी या अन्य कोई भाषा जाने उस भाषा में लिखित ज्ञान-विज्ञान को मशीनी अनुवाद द्वारा कोई भी पढ़ सके तथा कोई भी अपनी बात का विचार का सम्प्रेषण संगणक (कम्प्यूटर) द्वारा अन्य भाषाओं में कर सके तो फिर अंग्रेजी भाषा सीखने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। साथ ही संस्कृत भाषा में लिखित वेद व आर्ष-वाङ्मय के ज्ञान-विज्ञान को हम अनेक भाषाओं में सुलभ करा सकते हैं, जिसका लाभ लेकर अंग्रेजी पठित हमारी नई पीढ़ी अपनी सांस्कृतिक जड़ों से जुड़ जायेगी और उनका यह भ्रम भी दूर हो जायेगा कि हमारे प्राचीन शास्त्रों में कुछ विशेष नहीं है।
             इसी परिप्रेक्ष्य में भारतीय संस्कृति व भाषाओं पर आये इस आसन्न संकट के प्रति जागरुकता लाने, इसके समाधान के लिये योजना प्रस्तुत करने, लोगों को इस कार्यक्रम से जोड़ने तथा भाषाई दूरियाँ दूर करने के प्रयत्न करना आवश्यक है। वैज्ञानिक पहले आधारवाली पाणिनीय व्याकरण का उपयोग लेकर और अपने शास्त्रों के महत्त्व को दर्शाने हेतु विचार-मंथन के लिये अन्तर्राष्ट्रीय सूचना तकनीक संस्थान (ढ्ढ ट्रिपल आई.टी.), हैदराबाद में दिनांक ९ मई २०१६ से एक संगोष्ठी (सेमिनार) का आयोजन किया गया। इस गोष्ठी में सहभागिता करने के लिये परोपकारिणी सभा द्वारा संचालित आर्ष गुरुकुल ऋषि उद्यान, अजमेर के वरिष्ठ ब्रह्मचारियों का एक दल आचार्य सत्यजित् जी एवं परोपकारिणी सभा के यशस्वी प्रधान डॉ. धर्मवीर जी के मार्गदर्शन में हैदराबाद के लिये रवाना हुआ। ६ मई २०१६ सायंकाल गुरुकुल से प्रारम्भ हुई यह यात्रा २७ मई प्रातःकाल गुरुकुल में प्रवेश के साथ सफलतापूर्वक सम्पन्न हुई। इस यात्रा का अनुभव अत्यन्त ज्ञानवर्द्धक, हर्ष मिश्रित, रोमांचकारी व स्मरणीय घटनाओं से भरपूर है।
गर्मी के बावजूद लगभग ३१ घंटे की एक ओर की हमारी रेल यात्रा उत्साहपूर्वक पूर्ण हुई। सिकन्दराबाद रेल्वे स्टेशन पर रात्रि में एक बजे पहुँचते ही ट्रिपल आई.टी. के वरिष्ठ प्राध्यापक श्री शत्रुञ्जय जी रावत व उनके सेवाभावी सहयोगी अपनी गाड़ियों में बैठाकर हम सबको संस्थान के बाकुल छात्रावास में लाये जहाँ सुव्यवस्थित कमरों में हमारे रहने की व्यवस्था की गई थी। प्रो. शत्रुञ्जय जी हमारे आचार्य सत्यजित् जी के कनिष्ठ भ्राता हैं, जिनका अत्यन्त प्रेम भरा सहयोग एवं आत्मीयता हमें यात्रा समाप्ति तक मिलता रहा जो हमें सदा स्मरणीय रहेगा।
             ट्रिपल आई.टी., हैदराबाद सन् १९९८ में स्थापित, अलाभकारी पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल पर आधारित एक ग्रेड-ए स्वायत्तशासी शोध विश्वविद्यालय है-जो दक्षिण एशिया के छह शीर्ष-शोध विश्वविद्यालयों में एक है। इस संस्था का उद्देश्य शोध परक शिक्षा द्वारा समाज व उद्योग में सकारात्मक परिवर्त्तन लाना, नवाचार को प्रोत्साहित करना और मानवीय मूल्यों को पुनर्स्थापित करना है।



Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।